Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » Life Management Of Vidur Niti.

इन 7 तरह के लोगों को न ठहराएं घर में, वरना आप भी फंस सकते हैं मुसीबत में

विदुर नीति के अनुसार, 7 लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें घर में ठहराने से आप भी मुसीबत में फंस सकते हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 06, 2018, 10:34 AM IST

  • इन 7 तरह के लोगों को न ठहराएं घर में, वरना आप भी फंस सकते हैं मुसीबत में
    +2और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क.विदुर नीति के अनुसार, 7 लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें घर में ठहराने से आप भी मुसीबत में फंस सकते हैं। लाइफ मैनेजमेंट के दृष्टिकोण से देखा जाए तो इनमें से कुछ लोग अपनी जिम्मेदारी नहीं समझते और कुछ अपनी आदतों की वजह से आपको संकट में डाल सकते हैं। इसलिए समय रहते इन्हें घर से निकाल देने में ही भलाई है।

    श्लोक
    अकर्मशीलं च महाशनं च लोक द्विष्टं बहुमायं नृशंसम्।
    अदेशकालज्ञमनिष्टवेष मेतान् गृहे न प्रतिवासयेत।।

    अर्थ- 1. अकर्मण्य (आलसी), 2. बहुत खाने वाले, 3. लोगों से दुश्मनी करने वाले, 4. अधिक मायावी, 5. क्रूर, 6. देश-काल का ज्ञान न रखने वाले और 7. निंदित वेष धारण करने वाले मनुष्य को कभी अपने घर में ठहरने नहीं देना चाहिए।


    1. आलसी
    कुछ लोग ऐसे होते हैं कर्म पर नहीं भाग्य के भरोसे होते हैं। ऐसे लोग सक्षम होने पर भी काम नहीं करते और पूरी तरह अपने परिवार वालों पर ही आश्रित रहते हैं। भोजन, कपड़ा आदि मूलभूत जरूरतों के लिए भी ये अपने परिजनों पर ही निर्भर होते हैं। परिवार न होने की स्थिति में ये अपने रिश्तेदारों के घर पहुंच जाते हैं। ऐसे लोग कभी अपनी जिम्मेदारी नहीं समझ पाते, इसलिए इन्हें घर में नहीं ठहराना चाहिए।

    2. बहुत खाने वाला

    यहां बहुत खाने वाले से अर्थ आवश्यकता से अधिक खाने वाला है। ऐसे लोग जरूरत से ज्यादा खाने के कारण आलसी व मोटे हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में ये मेहनत का काम नहीं कर पाते और अपने छोटी-छोटी जरूरतों के लिए भी परिवार पर निर्भर हो जाते हैं। घर से निकालने का मतलब इन्हें इनकी जिम्मेदारी का अहसास कराना है ताकि ये समय रहते आत्मनिर्भर बन सकें।

    3. लोगों से दुश्मनी करने वाले
    कुछ लोगों की आदत होती है छोटी-छोटी बातों पर या बिना वजह दूसरे लोगों से विवाद करने की। ऐसे लोगों के दोस्त कम और दुश्मन ज्यादा होते हैं। ऐसे लोगों के साथ रहने वालों पर भी हमेश खतरा मंडराता रहता है। इसलिए ऐसे लोग जो दूसरों से दुश्मनी करने वाले होते हैं, को तुरंत घर निकाल देने में ही भलाई है। नहीं तो इनके कारण आप और आपका परिवार दोनों खतरे में पड़ सकते हैं।


    अन्य लोगों को क्यों घर में नहीं ठहराना चाहिए, जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

  • इन 7 तरह के लोगों को न ठहराएं घर में, वरना आप भी फंस सकते हैं मुसीबत में
    +2और स्लाइड देखें

    4. अधिक मायावी (चालाक)
    ऐसे लोग जो अपने फायदे के लिए दूसरों का इस्तेमाल करते हैं और समय आने पर किसी को भी धोखा दे सकते हैं। ऐसे लोगों को भी घर में नहीं ठहराना चाहिए क्योंकि इन लोगों द्वारा किए गए कामों से दूसरों का नुकसान होता है। ऐसे लोग आपके घर में रहेंगे तो इससे आपके परिवार की प्रतिष्ठा भी कम होगी और इनसे पीड़ित लोग आपका भी नुकसान कर सकते हैं।


    5. क्रूर (गुस्से वाला)
    जिन्हें बहुत ज्यादा गुस्सा आता है और जो छोटी-छोटी बातों पर मरने-मारने पर उतारू हो जाते हैं, ऐसे लोगों को भी घर में नहीं ठहराना चाहिए। चाहे वो कितने भी घनिष्ठ मित्र या सगे-संबंधी क्यों न हों। ऐसे लोग गुस्सा आने पर अच्छा-बुरा नहीं सोचते और कुछ ऐसा कर बैठते हैं जिससे आप भी बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं। इसलिए ऐसे लोगों को घर से निकाल देने में ही भलाई है।

  • इन 7 तरह के लोगों को न ठहराएं घर में, वरना आप भी फंस सकते हैं मुसीबत में
    +2और स्लाइड देखें

    6. देश-काल का ज्ञान न रखने वाले
    देश यानी स्थान और काल यानी समय, जो लोग इन बातों का ज्ञान नहीं रखते, उन्हें भी घर में नहीं ठहराना चाहिए। जैसे विदेश में रहने वाले अपने रिश्तेदारों से कोई मिलने जाए तो उसे उस देश के नियमों का भी पालन करना जरूरी है। ऐसा न करने की स्थिति में वह तो मुसीबत में फंसेगा ही, साथ ही आपको भी कष्ट उठाना पड़ सकता है। इसलिए ऐसे लोग जो इन बातों का ज्ञान नही रखते और अपनी मनमर्जी करते हैं, को भी घर में नहीं ठहराना चाहिए।



    7. निंदित वेष धारण करने वाले
    जो उल-जूलूल कपड़े पहनते हैं या फिर मर्यादित कपड़े नहीं पहनते, ऐसे लोगों को भी घर में नहीं ठहराना चाहिए। परिवार में स्त्रियां भी होती हैं, ऐसे कपड़े पहनने वाले लोग इस बात को नहीं समझते और अपनी मनमर्जी से कपड़े पहनते हैं। इससे परिवार की मर्यादा का हनन होता है। इसलिए ऐसे लोगों को घर में नहीं ठहरना ही उचित है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Life Management Of Vidur Niti.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×