Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » How To Know God Is With You Or Not

आपके साथ है या नहीं भगवान श्रीकृष्ण, इन 4 तरीकों से लगा सकते हैं पता

पाना चाहते हैं देवी-देवताओं की विशेष कृपा तो 4 बातें पूरी कर सकती है आपकी इच्छा

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Dec 23, 2017, 04:48 PM IST

  • आपके साथ है या नहीं भगवान श्रीकृष्ण, इन 4 तरीकों से लगा सकते हैं पता
    +2और स्लाइड देखें

    कहा जाता है कि हमें हर पल भगवान का स्मरण करते रहना चाहिए। मनुष्य को सदैव अपना मन देव भक्ति में लगाए रखना चाहिए, लेकिन कई बार अनजाने में ही सही पर हम कुछ ऐसे काम भी कर जाते है, जिनसे भगवान हमसे नाराज हो जाते है और हमारा साथ छोड़ देते है। महाभारत के उद्योगपर्व में ऐसी चार बातों के बारे में बताया गया हैं, जिनका पालन करने पर भगवान प्रसन्न होते है और हम पर उनकी कृपा बनी रहती है।

    श्लोक-

    यतः सत्यं यतो धर्मो, यर्तो ह्रीरार्जवं यतः।

    ततो भवति गोविन्दो यतः कृष्णस्ततो जयः।।

    पहला और दूसरा गुण है सत्यता और धर्म-

    श्रीकृष्ण के प्रिय थे सत्य और धर्म के प्रतीक युधिष्ठिर

    युधिष्ठिर के सत्यवादी होने की बात सभी जानते हैं। युधिष्ठिर स्वयं भगवान धर्मराज के पुत्र थे, इसलिए वे भी धर्म के ही प्रतीक थे। युधिष्ठिर ने पूरे जीवन में धर्म का पालन किया, चाहे फिर उसकी वजह से उन्हें दुख ही क्यों ना झेलना पड़े हो। हमेशा सच बोलने और धर्म का पालन करने की वजह से ही श्रीकृष्ण ने हर परिस्थिति में युधिष्ठिर का साथ दिया। इसलिए कहा जाता है, जो मनुष्य हमेशा सच बोलता है और किसी भी स्थिति में अपने धर्म का त्याग नहीं करता है, उस पर भगवान की कृपा हमेशा बनी रहती है।

    आगे की स्लाइड्स पर जानें अन्य 3 चीजों के बारे में...

    तस्वीरों का प्रयोग प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

  • आपके साथ है या नहीं भगवान श्रीकृष्ण, इन 4 तरीकों से लगा सकते हैं पता
    +2और स्लाइड देखें

    तीसरा गुण है लज्जा (शर्म)-

    16 हजार राजकुमारियों की लज्जा देख श्रीकृष्ण ने कर लिया था उनसे विवाह

    पुराणों के अनुसार नरकासुर नाम के राक्षस ने 16 हजार राजकुमारियों का अपहरण करके, उन्हें बंदी बना कर रखा था। श्रीकृष्ण ने नरकासुर का वध करके सभी राजकुमारियों को उसकी कैद से आजाद किया था। जब श्रीकृष्ण ने उन राजकुमारियों के चेहरे पर लज्जा और श्रीकृष्ण के प्रति समर्पण का भाव देखा तो श्रीकृष्ण ने उन सभी राजकुमारियों को अपनी पत्नियों के रूप में स्वीकार कर, उनसे विवाह कर लिया था। जो भक्त अपने मन में लज्जा का भाव रखता है और सच्चे मन से भगवान की भक्ति करता है, भगवान ऐसे भक्त का साथ हर हाल में देते है।

  • आपके साथ है या नहीं भगवान श्रीकृष्ण, इन 4 तरीकों से लगा सकते हैं पता
    +2और स्लाइड देखें

    चौथा गुण है सरलता-

    सरलता ही खासियत थी श्रीकृष्ण के प्रिय मित्र सुदामा की

    भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा की दोस्ती एक मिसाल मानी जाती है। भगवान श्रीकृष्ण के प्रिय मित्र सुदामा की सबसे बड़ी खासियत उनकी सरलता ही थी। सुदामा के इसी गुण की वजह से वह श्रीकृष्ण को प्रिय थे। जिस मनुष्य के मन में छल-कपट न हो, जिसका मन साफ हो और जो दूसरों का बुरा कभी न चाहे, ऐसे सरल स्वभाव वाले लोगों से भगवान हमेशा प्रसन्न रहते है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×