Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » Facts About Arjun Of Mahabharat, Arjun Of The Mahabharata

अर्जुन का जन्म होते ही घटी थी 1 अद्भुत घटना, जिससे तय हो गई थी पांडवों की जीत

अर्जुन के जन्म पर ही हो गई थी युद्ध में उसकी जीत की आकाशवाणी

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 22, 2018, 05:00 PM IST

  • अर्जुन का जन्म होते ही घटी थी 1 अद्भुत घटना, जिससे तय हो गई थी पांडवों की जीत

    कुंती पुत्र अर्जुन एक महान योद्धा था। उसकी वीरता और पराक्रम के चर्चे न केवल पृथ्वी पर बल्कि देवलोक तक प्रसिद्ध थे। अर्जुन का जन्म जंगल में हुआ था। इसी दौरान कुछ ऐसा हुआ था, जो अर्जुन सहित सभी पांडवों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण साबित हुई।

    महाभारत के उद्योगपर्व के अनुसार, जब अर्जुन का जन्म हुआ था, उस समय एक अद्भुत घटना घटी थी। इसी घटना के बाद ये तय हो गया था कि युद्ध में पांडवों की ही जीत होगी।

    अर्जुन के जन्म के समय कुंती के सामने एक आकाशवाणी हुई थी। उस आकाशवाणी ने अर्जुन के जन्म पर ही उसके महान वीर होने की और युद्ध में कौरवों का विनाश करके राज्य पाने की घोषणा कर दी थी।

    जानिए कौन-सी थी उद्योगपर्व में हुई आकाशवाणी और क्या था उस आकाशवाणी का अर्थ-

    यन्मां वागब्रवीन्नस्क्त, सूतके सव्यसाचिनः।
    पुत्रस्ते पृथिवीं जेता, यशश्चास्य दिवं स्पृशेत्।।
    हत्वा कुरून् महाजन्ये, राज्यं प्राप्त धन्नजयः।
    भ्रातृभिः सह कौन्तेयस्त्रीन्, मेधानाहरिष्यति।।

    अर्थात-

    अर्जुन के जन्म के समय जब कुंती कमरे में अकेली थी, उस समय आकाशवाणी ने कुंती से कहा था- ‘तेरा पुत्र सारी पृथ्वी को जीत लेगा। इसका यश स्वर्गलोक तक फैल जाएगा। यह महान संग्राम में कौरवों का संहार करके राज्य पर अधिकार कर लेगा, फिर अपने भाइयों के साथ तीन अश्वमेधयज्ञ करेगा’।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×