Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Chankaya Neeti » Life Line, Palmistry About Life Line, Jivan Rekha

हस्तरेखा सीखें, आपके बारे में क्या-क्या बताती है जीवन रेखा

जब जीवन रेखा के दोष दूर हो जाते हैं, तो व्यक्ति का जीवन सामान्य हो जाता है।

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Nov 16, 2017, 05:00 PM IST

  • हस्तरेखा सीखें, आपके बारे में क्या-क्या बताती है जीवन रेखा
    +3और स्लाइड देखें

    हाथों में जीवन रेखा का अध्ययन करके उम्र और सुख-दुख से जुड़ी बातें मालूम की जा सकती हैं। यदि हथेली में यह एक रेखा टूटी हो, तो व्यक्ति को मृत्यु समान कष्ट मिल सकते हैं। यहां जानिए जीवन रेखा देखकर कैसे मालूम करें भविष्य और स्वभाव की बातें...

    कहां होती है जीवन रेखा?

    हथेली में सामान्यत: तीन रेखाएं मुख्य रूप से दिखाई देती हैं। ये तीन रेखाएं जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और हृदय रेखा है। इनमें से जो रेखा अंगूठे के ठीक नीचे शुक्र पर्वत को घेरे रहती है, वही जीवन रेखा कहलाती है। यह रेखा इंडेक्स फिंगर के नीचे स्थित गुरु पर्वत के आसपास से प्रारंभ होकर हथेली के अंत मणिबंध की ओर जाती है। यदि जीवन रेखा टूटी हुई हो और उसके साथ ही कोई अन्य रेखा समानांतर रूप से चल रही हो तो इसका अशुभ प्रभाव नष्ट हो जाता है।

    ऐसी जीवन रेखा होती है अशुभ

    हमारी हथेली में जैसी जीवन रेखा होती है, हमारा जीवन ठीक वैसा ही चलता है। यदि ये रेखा अन्य छोटी-बड़ी रेखाओं से कटी हुई या टूटी हुई हो, तो इसे अशुभ माना जाता है। जितनी लंबी जीवन रेखा होती है, उतना ही लंबा हमारा जीवन होता है।

    - यदि मस्तिष्क रेखा (मस्तिष्क रेखा और जीवन रेखा लगभग एक ही स्थान से प्रारंभ होती है) और जीवन रेखा के मध्य थोड़ा अंतर हो तो व्यक्ति स्वतंत्र विचारों वाला होता है।

    - यदि किसी व्यक्ति के हाथ में जीवन रेखा श्रृंखलाकार या अलग-अलग टुकड़ों से जुड़ी हुई या बनी हुई हो तो व्यक्ति निर्बल हो सकता है। ऐसे लोग स्वास्थ्य की दृष्टि से भी परेशानियों का सामना करते हैं। ऐसा विशेषत: तब होता है, जब हाथ कोमल हो। जब जीवन रेखा के दोष दूर हो जाते हैं, तो व्यक्ति का जीवन सामान्य हो जाता है।
  • हस्तरेखा सीखें, आपके बारे में क्या-क्या बताती है जीवन रेखा
    +3और स्लाइड देखें
    - यह रेखा बाएं हाथ में टूटी हुई हो तथा दाएं हाथ में जुड़ी दिखाई दे तो किसी गंभीर रोग की सूचना देती है। यदि दोनों हाथों में जीवन रेखा टूटी हुई हो, तो मृत्यु समान कष्ट की सूचक होती है। ऐसा उस समय तो और भी निश्चित हो जाता है, जब टूटी हुई जीवन रेखा शुक्र पर्वत के भीतर की ओर मुड़ती दिखाई देती है। यह अशुभ लक्षण है।
    - यदि मस्तिष्क रेखा और जीवन रेखा के मध्य अधिक अंतर हो तो व्यक्ति बिना सोच-विचार के कार्य करने वाला होता है।
    - यदि दोनों हाथों में जीवन रेखा टूटी हुई हो, तो व्यक्ति को असमय मृत्यु तुल्य कष्टों का सामना करना पड़ सकता है। यदि एक हाथ में जीवन रेखा टूटी हो और दूसरे हाथ में यह रेखा ठीक हो, तो यह किसी गंभीर बीमारी की ओर इशारा करती है।
  • हस्तरेखा सीखें, आपके बारे में क्या-क्या बताती है जीवन रेखा
    +3और स्लाइड देखें
    - यदि जीवन रेखा से कोई शाखा गुरु पर्वत क्षेत्र (इंडेक्स फिंगर के नीचे वाले भाग को गुरु पर्वत कहते हैं।) की ओर उठती दिखाई दे या उसमें जा मिले, तो इसका अर्थ यह समझना चाहिए कि जिस समय से वह रेखा जीवन रेखा के ऊपर की ओर जाती है, तो व्यक्ति को कोई बड़ा पद या व्यापार-व्यवसाय में तरक्की प्राप्त होती है।
    - यदि जीवन रेखा से कोई शाखा शनि पर्वत क्षेत्र (मिडल फिंगर के नीचे वाले भाग को शनि पर्वत कहते हैं।) की ओर उठकर भाग्य रेखा के साथ-साथ चलती दिखाई दे तो इसका अर्थ यह होता है कि व्यक्ति को धन-संपत्ति का लाभ मिल सकता है। ऐसी रेखा के प्रभाव से व्यक्ति को सुख-सुविधाओं की वस्तुएं भी प्राप्त हो सकती हैं।
  • हस्तरेखा सीखें, आपके बारे में क्या-क्या बताती है जीवन रेखा
    +3और स्लाइड देखें
    - यदि जीवन रेखा को कई छोटी-छोटी रेखाएं काटती हुई नीचे की ओर जाती हो, तो ये रेखाएं व्यक्ति के जीवन में परेशानियों को दर्शाती हैं। यदि इस तरह की रेखाएं ऊपर की ओर जा रही हों तो व्यक्ति को सफलता प्राप्त होती है।
    - यदि जीवन रेखा, हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा तीनों प्रारंभ में मिली हुई हो तो व्यक्ति भाग्यहीन, दुर्बल और परेशानियों से घिरा होता है।
    (हृदय रेखा इंडेक्स फिंगर और मिडल फिंगर के आसपास से प्रारंभ होकर सबसे छोटी उंगली की ओर जाती है।)
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Life Line, Palmistry About Life Line, Jivan Rekha
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×