Home » Jeevan Mantra »Dharm »Gyan » Interesting Things Pertaining To The Death

कबीर ने बताई है अपने इन दोहों में कुछ ऐसी बातें, जो किसी की भी सोच बदल सकती है

कहते हैं जन्म, मरण और शादी ये तीन दिन ऐसे होते हैं

धर्म डेस्क | Last Modified - Jul 12, 2018, 03:39 PM IST

  • कबीर ने बताई है अपने इन दोहों में कुछ ऐसी बातें, जो किसी की भी सोच बदल सकती है
    +4और स्लाइड देखें
    उज्जैन। कहते हैं जन्म, मरण और शादी ये तीन दिन ऐसे होते हैं, जो भगवान तय करके ही हमें इस संसार में भेजते हैं। जिसने भी जन्म लिया है। उसकी मृत्युु का दिन निश्चित है। इसके बावजूद मतलब, चाहत या फायदे के लिए कई लोग मौत की सच्चाई को अनदेखा करते हैं। ईगो को सिर पर चढ़ाकर ज़िंदगी गुजारते हैं, बल्कि शास्त्रों में अहं व उससे पैदा होने वाले दोषों से दूरी बनाने के लिए मृत्यु को याद रखना भी बेहतर तरीका बताया गया है। हिन्दू पौराणिक मान्यताओं में दो अलग-अलग युगों में रावण व कंस भी ऐसे पात्र हैं, जो घमंड मेंके मद में चूर होने से मिली मृत्यु के उदाहरण है।

    वहीं, सच यह भी है कि साधारण इंसान के लिए अहंकार को पहचानना आसान नहीं होता, लेकिन संत कबीर ने अंहकार को मन में आने से रोकने व अनचाहे दु:खों से बचने के लिए अपने सटीक दोहों में जो बातें बताई हैं। उनके जरिए काल या मृत्यु को याद ही नहीं रखा जा सकता है, बल्कि बात, सोच और कामों में सही व गलत के फर्क को बेहतर ढंग से समझा भी जा सकता है।

    संत कबीर ने मृत्यु के अटल सत्य को सामने रख जो सूत्र बताए हैं वो इस प्रकार हैंं

    इक दिन ऐसा होइगा, सब सूं पड़ै बिछोह।
    राजा राणा छत्रपति, सावधान किन होइ॥
    - एक दिन ऐसा सभी का आता है, जब सबसे बिछुड़ना पड़ता है। फिर भी, ये बड़े-बड़े राजा और छत्र-धारी राणा क्यों जागते नहीं। एक-न-एक दिन अचानक आ जाने वाले उस दिन को वे क्यों याद नहीं कर रहे? संदेश यही है कि किसी भी तरह से ताकतवर हो जाएं मृत्यु तो आनी है।इसलिए ताकत का दंभ दूर रख जीवन जीएं।

    सभी तस्वीरों का उपयोग केवल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है...

    आगे पढ़ें- कबीर के कुछ और दोहे व उनका अर्थ....


  • कबीर ने बताई है अपने इन दोहों में कुछ ऐसी बातें, जो किसी की भी सोच बदल सकती है
    +4और स्लाइड देखें
    कबिरा गर्ब न कीजिये, और न हंसिये कोय।
    अजहूं नाव समुद्र में, ना जाने का होय।।


    यानी हर इंसान समुद्र रूपी संसार में जीवन रूपी नाव में बैठा है, इसलिए वह किसी भी हालात में ताकत, बल, सुख, सफलता पाकर अहंकार न करें, न ही उसके मद में दूसरों की हंसी उडाए या उपेक्षा, अपमान करे, क्योंकि न जाने कब काल रूपी हवा के तेज झोंके के उतार-चढ़ाव जीवन रूपी नौका को डूबो दे।
    पोथी पढि़ पढि़ जग मुवा, पंडित हुआ न कोय।
    ढाई आखर प्रेम का, पढ़ै सो पंडित होय।


    - पोथी पढ़-पढ़कर संसार में बहुत लोग मर गए, लेकिन विद्वान न हुए पंडित न हुए। जो प्रेम को पढ़ लेता है वह पंडित हो जाता है।

    आगे पढ़ें- संत कबीर के कुछ और दोहे...
  • कबीर ने बताई है अपने इन दोहों में कुछ ऐसी बातें, जो किसी की भी सोच बदल सकती है
    +4और स्लाइड देखें
    इत के भये न उत के, चाले मूल गंवाइ ॥

    इसमें संत कबीर की चेतावनी है कि हर इंसान यह सोचे कि हमने इस दुनिया में आकर क्या किया? और भगवान के यहां जाकर क्या कहेंगे? ऐसे काम न हो जाएं कि न तो यहां के रहें और न वहां के ही। दोनों ही जगह बिगाड़ और मूल भी गवांकर इस दुनिया से बिदाई हो जाए।
    माटी कहे कुम्हार से, तू क्या रौंदे मोय।
    एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूगी तोय॥

    - यानी मिट्टी कह रही है कुम्हार से कि तू क्या सोच रहा है तू मुझे अपने पैरों के तले रौंद रहा है। ये संसार नश्वर है। एक दिन ऐसा आएगा जब मैं तुझे रौंदूगी यानी ये झूठा घमंड छोड़ दे कि तू मुझे रौंद रहा है,जबकि वास्तविकता यह है कि तू मुझ से बना है और एक न एक दिन तुझे मुझमें ही मिलना है।
    आगे पढ़ें- संत कबीर के कुछ और दोहे...
  • कबीर ने बताई है अपने इन दोहों में कुछ ऐसी बातें, जो किसी की भी सोच बदल सकती है
    +4और स्लाइड देखें
    धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय,
    माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय।
    - मन में धीरज रखने से सब कुछ होता है, यदि कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो ऋतु आने पर ही लगेगा।

    माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
    कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।


    - कोई व्यक्ति लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला तो घुमाता है, पर उसके मन का भाव नहीं बदलता, उसके मन की हलचल शांत नहीं होती। कबीर की ऐसे व्यक्ति को सलाह है कि हाथ की इस माला को फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलो या फेरो।

    आगे पढ़ें- संत कबीर के कुछ और दोहे...
  • कबीर ने बताई है अपने इन दोहों में कुछ ऐसी बातें, जो किसी की भी सोच बदल सकती है
    +4और स्लाइड देखें
    प्रेम-प्रेम सब कोइ कहैं, प्रेम न चीन्है कोय।
    जा मारग साहिब मिलै, प्रेम कहावै सोय॥


    - संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि प्रेम करने की बात तो सभी करते हैं पर उसके वास्तविक रूप को कोई समझ नहीं पाता। प्रेम का सच्चा मार्ग तो वही है जहां परमात्मा की भक्ति और ज्ञान प्राप्त हो सके।
    शब्द न करैं मुलाहिजा, शब्द फिरै चहुं धार।
    आपा पर जब चींहिया, तब गुरु सिष व्यवहार।।


    - संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि शब्द किसी का मुंह नहीं ताकता। वह तो चारों ओर निर्विघ्न विचरण करता है। जब शब्द ज्ञान से अपने पराए का ज्ञान होता है तब गुरु शिष्य का संबंध स्वत: स्थापित हो जाता है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×