जरुरी नहीं की किसी काम का विरोध शोर-शराबे से किया जाए। कभी-कभी मौन रह जाना भी तीखी आलोचना होती है। - फ्रैंकलिन