किसी को अपनी कमजोरियां बताकर आप खुद को उसका गुलाम बना देते हैं। - चाणक्य