किसी के पास कितना भी धन और शक्ति का भंडार क्यों ना हो, अंतिम मूल्यांकन उसका अपना चरित्र ही होता है। - वेद व्यास