Home» Jeevan Mantra »Fitness Mantra »Ayurvedic Nuskhe» कई तरह के दर्द का एक हल है जायफल

कई तरह के दर्द का एक हल है जायफल

धर्मडेस्क. उज्जैन | Oct 12, 2011, 07:44 AM IST

  • कई तरह के दर्द का एक हल है जायफल, ayurvedic nuskhe religion hindi news, rashifal news

खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए या किसी भी डिश को विशेष स्वाद देने के लिए उसमें जायफल का उपयोग किया जाता है। लेकिन जायफल न सिर्फ खाने का जायका बढ़ाता है बल्कि इससे कई तरह के रोगों के उपचार भी संभव है। जायफल अमाशय के लिए विशेष रूप से फायंदेमंद है।
आमाशय के लिए उत्तेजक होने से आमाशय में पाचक रस बढ़ता है, जिससे भूख लगती है। आंतों में पहुंचकर वहां से गैस हटाता है। ज्यादा मात्रा में यह मादक प्रभाव करता है। इसका प्रभाव मस्तिष्क पर कपूर के समान होता है, जिससे चक्कर आना, प्रलाप आदि लक्षण प्रकट होते हैं। इससे कई बीमारियों में लाभ मिलता है तथा सौन्दर्य सम्बन्धी कई समस्याओं से भी निजात मिलती है।
आयुर्वेद में जायफल को वात एवं कफ नाशक बताया गया है। सुबह-सुबह खाली पेट आधा चम्मच जायफल चाटने से गैस्ट्रिक, सर्दी-खांसी की समस्या नहीं सताती है। पेट में दर्द होने पर चार से पांच बूंद जायफल का तेल चीनी के साथ लेने से आराम मिलता है। छोटे बच्चों को सरसों के तेल में जायफल मिलाकर चटाने से उल्टी नहीं होती है और उनका हाजमा ठीक रहता है। सरसों तेल में जायफल के तेल की कुछ बूंदें मिलकार मालिश करने से चोट एवं मोच में आराम मिलता है। चेहरे पर मुंहासे अधिक हो रहे हैं तो जायफल का लेप चेहरे पर लगाएं। इससे मुंहासे सूख जाएंगे। झाईयों में भी मुंहासों का लेप गुणकारी होता है। इससे रंगत भी निखरती है।
शिशु का दूध छुड़ाकर ऊपर का दूध पिलाने पर यदि दूध पचता न हो तो दूध में आधा पानी मिलाकर, इसमें एक जायफल डालकर उबालें। इस दूध को थोडा ठण्डा करके कुनकुना गर्म, चम्मच कटोरी से शिशु को पिलाएँ, यह दूध शिशु को हजम हो जाएगा।शरीर के जोड़ों में दर्द होना गठिया यानी सन्धिवात रोग का लक्षण होता है। गठिया के अलावा चोट, मोच और पुरानी सूजन के लिए जायफल और सरसों के तेल के मिलाकर मालिश करने से आराम होता है। इसकी मालिश से शरीर में गर्मी आती है, चुस्ती फुर्ती आती है और पसीने के रूप में विकार निकल जाता है।
पेट में दर्द हो जायफल के तेल की 2-3 बूंद शकर में या बताशे में टपकाकर खाने से फौरन आराम होता है। इसी तरह दांत में दर्द होने पर जायफल के तेल में रूई डुबोकर इसे दांत-दाढ़ के कोचर में रखने से कीड़े मर जाते हैं और दर्द दूर हो जाता है। इसके तेल में दर्द को रोकने का गुण होता है। इसलिए दर्द का अनुभव होना बन्द हो जाता है।

Related Articles:

चौक जाएंगे आप: धनतेरस, सर्जरी और भारत तीनों में है ये अद्भुत रिश्ता?
ये 11 हैं स्वर्ग की खास, सुंदर और मनमोहक अप्सराएं...
बस ये आठ स्टैप्स और सफलता होगी आपके कदमों में
दालचीनी की इतनी खूबियां जानकर आप हैरत में पड़ जाएंगे!
जादुई ट्रिक: इससे आपके काबू में होगें सब लोग



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: कई तरह के दर्द का एक हल है जायफल
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    Next Article

    Recommended

        PrevNext