ऐसी शादियों को माना गया है अशुभ, ग्रंथों में कही गई हैं शादी से जुड़ी ये बातें

जीवनमंत्र डेस्क | Mar 15, 2017, 00:52 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

indian ritual of marriage

पाणिग्रहण संस्कार या विवाह की प्रथा प्राचीन समय से चली आ रही है। ग्रंथों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, आर्य, प्राजापत्य, असुर, गंधर्व, राक्षस और पिशाच। नारद पुराण के अनुसार, सबसे अच्छा विवाह ब्रह्म विवाह माना जाता है। इसके बाद दैव विवाह और आर्य विवाह को भी बहुत उत्तम माना गया है। प्राजापत्य, असुर, गंधर्व, राक्षस और पिशाच विवाह को बेहद अशुभ माना जाता है। कुछ विद्वानों के अनुसार प्राजापत्य विवाह भी ठीक है।
अगली स्लाइड पर पढ़ें- क्यों अच्छे नहीं माने गए हैं कुछ खास तरह के विवाह
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Wedding Ceremonies in India
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      Trending Now

      पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

      दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

      * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
      Top