Home» Jeevan Mantra »Jeevan Mantra Junior »Kahani Aur Kisse » Story Of Birth The Hundred Kauravas

सौ कौरवों को कैसे जन्म दिया गांधारी ने, महाभारत की एक यूनिक और इंटरेस्टिंग कहानी

जीवनमंत्र डेस्क | Jan 09, 2017, 12:17 IST


धृतराष्ट्र जन्मजात नेत्रहीन थे, मगर उनकी पत्नी गांधारी अपनी इच्छा से नेत्रहीन थी। धृतराष्ट्र चाहते थे कि उनके भाइयों की संतान होने से पहले उनको संतान हो जाए, क्योंकि नई पीढ़ी का सबसे बड़ा पुत्र ही राजा बनता। उन्होंने गांधारी से खूब प्रेमपूर्ण बातें कीं ताकि वह किसी तरह एक पुत्र दे सके। मगर ऐसा हो नहीं पा रहा था। आखिरकार एक दिन मुनि व्यास हस्तिनापुर आए। गांधारी ने उनकी खूब सेवा की। महर्षि व्यास ने गांधारी से प्रसन्न होकर वर मांगने को कहा तब गांधारी ने धृतराष्ट्र के समान सौ पुत्र होने का वरदान मांगा। व्यासजी ने आशीर्वाद दिया।
आगे पढ़ें- कैसे दिया गांधारी ने सौ पुत्रों को जन्म...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: story of birth the hundred Kauravas
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      Trending Now

      पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

      दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

      * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
      Top