Home» Jeevan Mantra »Dharm »Utsav »Jeevan Utsav » Utsav- Bhishma Dwadshi On 22, It Fast Destroyer Of Sins.

भीष्म द्वादशी 22 को, पापों का नाश करता है यह व्रत

धर्म डेस्क. उज्जैन | Feb 20, 2013, 07:00 AM IST

भीष्म द्वादशी 22 को, पापों का नाश करता है यह व्रत

माघ मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को भीष्म द्वादशी कहते हैं। इस दिन व्रत किया जाता है। इस बार यह व्रत 22 फरवरी, शुक्रवार को है। इसका महत्व इस प्रकार है-
धर्म ग्रंथों के अनुसार इस व्रत को करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं तथा सुख व समृद्धि की प्राप्ति होती है। भीष्म द्वादशी व्रत सब प्रकार का सुख वैभव देने वाला होता है। इस दिन उपवास करने से समस्त पापों का नाश होता है। इस व्रत में ब्राह्मण को दान, पितृ तर्पण, हवन, यज्ञ, आदि करने से अमोघ फल प्राप्त होता है। माघ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी के ठीक दूसरे दिन भीष्म द्वादशी का व्रत किया जाता है। इस व्रत को भगवान श्रीकृष्ण ने भीष्म पितामाह को बताया था और उन्होंने इस व्रत का पालन किया जिससे इसका नाम भीष्म द्वादशी पड़ा। इस व्रत में ऊँ नमो नारायणाय नम: आदि नामों से भगवान नारायण की पूजा अर्चना करनी चाहिए। ऐसा करने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: utsav- Bhishma Dwadshi on 22, it fast destroyer of sins.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    Trending Now

    Top