इंसान का बाहरी स्वभाव उसके भीतरी स्वभाव का ही बड़ा रुप होता है। - शेक्सपीयर