एकांत खुद से बात करने का मौका है। जो बातें, जो चिंतन आप खुद से भीड़ में नहीं कर सकते, एकांत हमें वो बातें करने का अवसर देता है। - टॉलस्टाय