आलस्य मनुष्य के शरीर में रहने वाला महान शत्रु है। पुरुषार्थ के समान कोई मित्र नहीं है, जिसमे इसका आश्रय ले लिया वो दुखों से बच जाता है। - नीतिशतक