पहले हर अच्छी बात का मजाक बनता है। फिर उसका विरोध होता है और अंत में उसे स्वीकार कर लिया जाता है। - स्वामी विवेकानंद