Home >> Jeevan Mantra >> Dharm >> Utsav >> Jeevan Utsav
  • निष्काम कर्म करने की प्रेरणा देती है श्रीमद्भागवतगीता
    उज्जैन।जब महाभारत का युद्ध प्रारंभ होने वाला था। तब अर्जुन ने कौरवों के साथ भीष्म, द्रोणाचार्य, कृपाचार्य आदि श्रेष्ठ महानुभावों को देखकर उनके प्रति स्नेह होने पर युद्ध करने से इंकार कर दिया था। तब भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था जिसे सुन अर्जुन ने न सिर्फ महाभारत युद्ध में भाग लिया अपितु उसे निर्णायक स्थिति तक पहुंचाया। गीता को आज भी हिंदू धर्म में बड़ा ही पवित्र ग्रंथ माना जाता है। गीता के माध्यम से ही श्रीकृष्ण ने संसार को धर्मानुसार कर्म करने की प्रेरणा दी। वास्तव...
    August 15, 06:00 AM
  • भाद्रपद मास आज से, इस महीने में रखना चाहिए इन बातों का ध्यान
    उज्जैन। हिन्दू पंचांग का छठा माह भाद्रपद (भादौ) है। इस बार यह 11 अगस्त, सोमवार से शुरू हो रहा है। यह चातुर्मास के चार पवित्र महीनों का दूसरा महीना भी है। हिन्दू पंचांग का भाद्रपद महीना भादौ, भादवा या भाद्र के नाम से भी जाना जाता है। इस महीने में आकाश में पूर्वा या उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र के योग बनने से इस माह का नाम भाद्रपद है। यह योग भाद्रपद पूर्णिमा के दिन बनता है। भाद्रपद महीना हिंदू धर्म के पवित्र चातुर्मास के अंतर्गत आता है। इसलिए इसमें कुछ नियमों का पालन करना अनिवार्य बताया गया है- जो इस...
    August 11, 06:00 AM
  • रक्षाबंधन 10 को, भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है ये पर्व
    उज्जैन।श्रावण मास की पूर्णिमा को रक्षाबंधन का पर्व बड़े ही उत्साह से मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती है और उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती हैं। वहीं भाई भी जीवन भर अपनी बहनों को रक्षा का वचन देते हैं। यह पर्व भाई-बहन के प्रेम का अनुपम उदाहरण है। इस बार यह त्योहार 10 अगस्त, रविवार को है। बहनों को इस पर्व का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार रहता है। वहीं भाई भी बहनों के घर आने की बाट जोहते हैं। जब बहनें अपने भाइयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती है तो वे यह कामना करती...
    August 6, 06:00 AM
  • भगवान शिव का रौद्र अवतार है वीरभद्र, ये बातें सीखें इनसे
    उज्जैन।भगवान शिव के वीरभद्र अवतार का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। यह अवतार हमें संदेश देता है कि शक्ति का प्रयोग वहीं करें जहां उसका सदुपयोग हो। वीरों को दो वर्ग होते हैं- भद्र एवं अभद्र वीर। राम, अर्जुन और भीम वीर थे। रावण, दुर्योधन और कर्ण भी वीर थे, लेकिन पहला भद्र (सभ्य) वीर वर्ग है और दूसरा अभद्र (असभ्य) वीर वर्ग। सभ्य वीरों का काम होता है हमेशा धर्म के पथ पर चलना तथा नि:सहायों की सहायता करना। जबकि असभ्य वीर वर्ग सदैव अधर्म के मार्ग पर चलते हैं तथा नि:शक्तों को परेशान करते हैं। भद्र का अर्थ...
    July 18, 06:00 AM
  • श्रावण मास 13 से: शिव भक्ति और प्राकृतिक सुंदरता का संगम है ये महीना
    उज्जैन।धर्म ग्रंथों में श्रावण (सावन) मास का विशेष महत्व बताया गया है। धर्म ग्रंथों के अनुसार श्रावण का अर्थ है सुनना। इसलिए यह भी कहा जाता है इस महीने में सत्संग, प्रवचन व धर्मोपदेश सुनने से विशेष फल मिलता है। यह महीना और भी कई कारणों से विशेष है क्योंकि इस दौरान भक्ति, आराधना तथा प्रकृति के कई रंग देखने को मिलते हैं। यह महीना भगवान शंकर की भक्ति के लिए विशेष माना जाता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इस मास में विधि पूर्वक शिव उपासना करने से मनचाहे फल की प्राप्ति होती है। सावन में ही कई प्रमुख...
    July 11, 06:00 AM
  • जानिए, जीवन में गुरु का होना क्यों जरूरी है?
    उज्जैन।हिन्दू धर्म में आषाढ़ पूर्णिमा ( इस वर्ष 12 जुलाई, शनिवार) गुरु भक्ति को समर्पित गुरु पूर्णिमा का पवित्र दिन भी है। भारतीय सनातन संस्कृति में गुरु को सर्वोपरि माना है। वास्तव में यह दिन गुरु के रुप में ज्ञान की पूजा का है। गुरु का जीवन में उतना ही महत्व है, जितना माता-पिता का। माता-पिता के कारण इस संसार में हमारा अस्तित्व होता है। किंतु जन्म के बाद एक सद्गुरु ही व्यक्ति को ज्ञान और अनुशासन का ऐसा महत्व सिखाता है, जिससे व्यक्ति अपने सद्कर्मों और सद्विचारों से जीवन के साथ-साथ मृत्यु के बाद...
    July 10, 11:30 AM
  • ब्रज भाषा के श्रेष्ठ कवि थे संत सूरदास, जयंती कल
    उज्जैन।संतसूरदास का नाम कृष्ण भक्त कवियों में सबसे पहले लिया जाता है। हिन्दी साहित्य में भगवान श्रीकृष्ण के अनन्य उपासक और ब्रजभाषा के श्रेष्ठ कवि महात्मा सूरदास हिंदी साहित्य के सूर्य माने जाते हैं। इस बार 4 मई, रविवार को इनकी जयंती है।सूरदास का जन्म 1478 ईस्वी में रुनकता नामक गांव में हुआ। यह गाँव मथुरा-आगरा मार्ग के किनारे स्थित है। कुछ विद्वानों का मत है कि सूर का जन्म सीही नामक ग्राम में एक निर्धन सारस्वत ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बाद में ये आगरा और मथुरा के बीच गऊघाट पर आकर रहने लगे थे।...
    May 3, 06:00 AM
  • विनायकी चतुर्थी आज: इस विधि से करें व्रत, प्रसन्न होंगे श्रीगणेश
    उज्जैन।भगवान गणेश सभी दु:खों को हरने वाले हैं। इनकी कृपा से असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए प्रत्येक शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को व्रत किया जाता है, इसे विनायकी चतुर्थी व्रत कहते हैं। इस बार यह व्रत 2 मई, शुक्रवार को है। विनायकी चतुर्थी का व्रत इस प्रकार करें- - सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि काम जल्दी ही निपटा लें। - दोपहर के समय अपने सामथ्र्य के अनुसार सोने, चांदी, तांबे, पीतल या मिट्टी से बनी भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करें। - संकल्प मंत्र के बाद श्रीगणेश की...
    May 2, 06:00 AM
  • वैशाख महीेने में इस प्रकार करें स्नान व व्रत, प्रसन्न होंगे भगवान विष्णु
    उज्जैन। चैत्र शुक्ल पूर्णिमा से वैशाख मास स्नान आरंभ हो जाता है। यह स्नान पूरे वैशाख मास तक चलता है। स्कंदपुराण में वैशाख मास को सभी मासों में उत्तम बताया गया है। पुराणों में कहा गया है कि वैशाख मास में सूर्योदय से पहले जो व्यक्ति स्नान करता है तथा व्रत रखता है, वह भगवान विष्णु का कृपापात्र होता है। स्कंदपुराण में उल्लेख है कि महीरथ नामक राजा ने केवल वैशाख स्नान से ही वैकुण्ठधाम प्राप्त किया था। इसमें व्रती को प्रतिदिन प्रात:काल सूर्योदय से पूर्व किसी तीर्थस्थान, सरोवर, नदी या कुएं पर जाकर...
    April 21, 06:00 AM
  • सिक्खों के पांचवे गुरु अर्जुनदेवजी की जयंती आज
    उज्जैन। गुरु अर्जुनदेव सिक्खों के पांचवे गुरु थे। मुगलों ने इन पर कई अत्याचार किए, लेकिन फिर भी गुरु अर्जुनदेव धर्म के मार्ग पर अडिग रहे। अंतत: मुगलों ने इनकी हत्या करवा दी। आज (21 अप्रैल, सोमवार) गुरु अर्जुनदेव की जयंती है। श्रीगुरुग्रंथ साहिब में तीस रागों में गुरुजी की वाणी संकलित है। गणना की दृष्टि से श्रीगुरुग्रंथ साहिब में सर्वाधिक वाणी पंचम गुरु की ही है। मानव-कल्याण के लिए उन्होंने आजीवन कार्य किए। गुरुग्रंथ साहिब का संपादन गुरु अर्जुनदेव ने भाई गुरदास की सहायता से 1604 में किया।...
    April 21, 06:00 AM
  • वैशाख महीने में इस मंत्र से करें भगवान विष्णु का पूजन
    उज्जैन। हिंदू धर्म के अनुसार एक वर्ष में 12 महीने होते हैं। प्रत्येक महीने के स्वामी एक विशेष देवता माने गए हैं। उनके पूजन की विधि भी अलग-अलग बताई गई है। उसके अनुसार वैशाख मास के स्वामी भगवान मधुसूदन हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार सूर्यदेव के मेष राशि में आने पर भगवान मधुसूदन के निमित्त वैशाख मास स्नान का व्रत लेना चाहिए। स्नान के बाद भगवान मधुसूदन की पूजा करना चाहिए। इसके बाद भगवान मधुसूदन से इस प्रकार प्रार्थना करनी चाहिए- मधुसूदन देवेश वैशाखे मेषगे रवौ। प्रात:स्नानं करिष्यामि निर्विघ्नं...
    April 20, 06:00 AM
  • गुरु तेगबहादुर जयंती आज, धर्म की रक्षा के लिए कटाया था अपना सिर
    उज्जैन। सिक्खों के नवें गुरुका नाम गुरु तेगबहादुर है। गुरु तेगबहादुर ने धर्म व मानवता की रक्षा करते हुए हंसते-हंसते अपने प्राणों की कुर्बानी दी थी। आज (20 अप्रैल, रविवार) गुरु तेगबहादुर की जयंती है। जानिए कैसे गुरु तेगबहादुर ने निर्भय होकर अपना शिश कटा दिया- मुगल बादशाह औरंगजेब के दरबार में एक विद्वान पंडित आकर रोज गीता के श्लोक पढ़ता और उसका अर्थ सुनाता था, पर वह पंडित गीता में से कुछ श्लोक छोड़ दिया करता था। एक दिन वह पंडित बीमार हो गया और उसने औरंगजेब को गीता सुनाने के लिए अपने बेटे को भेज...
    April 20, 06:00 AM
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें