Home >> Jeevan Mantra >> Dharm >> Utsav
  • बच्चों को बताएं श्रीगणेश से जुड़ी ये बातें, क्यों मैनेजमेंट गुरु हैं गणपति ?
    उज्जैन। इन दिनों गणेशोत्सव चल रहा है। भगवान श्रीगणेश के जन्म की कथा जितनी रोचक है, उनके शरीर की बनावट भी उतनी ही रहस्यमयी है। इसके अलावा भी श्रीगणेश से जुड़ी कई ऐसी बातें हैं, जो बच्चों के लिए जिज्ञासा का विषय है जैसे- श्रीगणेश को दूर्वा क्यों चढ़ाते हैं या श्रीगणेश को मोदक का भोग क्यों लगाया जाता है? आज हम बच्चों की जिज्ञासा दूर करने के लिए श्रीगणेश से जुड़े ऐसे ही रोचक सवालों के जवाब आपको बता रहे हैं। इन जवाबों में लाइफ मैनेजमेंट के कर्इं सूत्र भी छिपे हैं, जो बच्चों के भावी जीवन के लिए उपयोगी...
    01:00 AM
  • तुलसी ने दिया था श्रीगणेश को विवाह करने का श्राप, जानिए रोचक बातें
    उज्जैन। किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान श्रीगणेश का पूजन किया जाता है। ये परंपरा पुराने समय से चली आ रही है। भगवान श्रीगणेश का जन्म कैसे हुआ और उनके मस्तक के स्थान पर किस प्रकार हाथी का मस्तक जोड़ा गया आदि बहुत सी बातें आमजन जानते हैं, लेकिन श्रीगणेश के बारे में कुछ बातें ऐसी भी हैं जो बहुत से लोग नहीं जानते हैं। गणेशोत्सव के शुभ अवसर पर हम आपको भगवान श्रीगणेश की कुछ ऐसी ही अनजानी व रोचक बातें बता रहे हैं। ये बातें इस प्रकार हैं- 1- ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार एक बार तुलसीदेवी गंगा तट से गुजर रही...
    September 2, 11:34 AM
  • राधा जन्माष्टमी आज: माता के गर्भ से नहीं जन्मीं राधा, ये है पूजन विधि
    उज्जैन।धर्म ग्रंथों के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि (इस बार 2 सितंबर, मंगलवार) को राधा जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इसी दिन व्रज में श्रीकृष्ण के प्रेयसी राधा का जन्म हुआ था। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार राधा भी श्रीकृष्ण की तरह ही अनादि और अजन्मी हैं, उनका जन्म माता के गर्भ से नहीं हुआ। इस पुराण में राधा के संबंध में बहुत ही ऐसी बातें बताई गई हैं जो बहुत कम लोग जानते हैं। ये बातें इस प्रकार हैं- - ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार श्रीकृष्ण के बाएं अंग से एक...
    September 2, 06:00 AM
  • ऐसे चढ़ाएं भगवान श्रीगणेश को पेड़ों के पत्ते, हर मनोकामना पूरी होगी
    उज्जैन। भगवान गणेश अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं। तंत्र शास्त्र के अनुसार विभिन्न पेड़-पौधों व पत्तों से भी भगवान की पूजा करने का विधान है। उसी के अनुसार यदि भगवान गणेश को विभिन्न प्रकार के पत्ते विधि-विधान से अर्पित किए जाएं तो हर चिंता दूर हो जाती है। उसी के अनुसार सबसे पहले भगवान गणेश को शमीपत्र चढ़ाकर सुमुखाय नम: कहें। इसके बाद क्रम से यह पत्ते चढ़ाएं और नाम मंत्र बोलें- 1. बिल्वपत्र उमापुत्राय नम: 2. दूर्वादल गजमुखाय नम: 3. बेर लम्बोदराय नम: 4. धतूरे का पत्ता हरसूनवे नम: 5. सेम...
    September 2, 06:00 AM
  • संतान सातें आज, इस पूजन से दीर्घायु व स्वस्थ होती है संतान
    उज्जैन। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को महिलाओं द्वारा संतान सातें का त्योहार मनाया जाता है। यह मुख्य रूप से राजस्थान का त्योहार है। इसे दुबड़ी सातें या दुबड़ी सप्तमी भी कहते हैं। यह त्योहार संतान की मंगलकामना के लिए किया जाता है। इस बार यह पर्व 1 सितंबर, सोमवार को है। इस दिन दुबड़ी माता की पूजा की जाती है। घर की दीवार पर दुबड़ी (कुछ बच्चों, सर्पों, मटका तथा एक औरत) का चित्र मिट्टी से बनाया जाता है। उनको चावल, जल, दूध, रोली, आटा, घी और चीनी मिलाकर लोई बनाकर उनसे पूजा जाता है, दक्षिणा चढ़ाई जाती...
    September 1, 06:00 AM
  • मोरयाई छठ आज, लाल फूल से करें भगवान सूर्य का पूजन
    उज्जैन। भाद्रपद मास शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मोरयाई छठ का व्रत रखा जाता है। इसे मोर छठ या कुछ स्थानों पर सूर्य षष्ठी व्रत भी कहते हैं। इस बार यह व्रत 31 अगस्त, रविवार को है। भविष्योत्तर पुराण के अनुसार प्रत्येक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को भगवान सूर्य के निमित्त व्रत करना चाहिए। इनमें भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी का विशेष महत्व है। इस दिन गंगा स्नान, सूर्योपासना, जप एवं व्रत किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन सूर्य पूजन, गंगा स्नान एवं दर्शन तथा पंचगव्य सेवन से अश्वमेध के...
    August 31, 06:00 AM
  • कितने गण हैं श्रीगणेश के, क्या हैं उनके नाम, जानिए
    उज्जैन। भगवान गणेशजी का उल्लेख ऋग्वेद के एक मंत्र (2-23-1) से मिलता है। चाहे कोई सा अनुष्ठान हो, इस मंत्र का जाप तो होता ही है...गणानां त्वां गणपति ँ हवामहे..। इस मंत्र में ब्रह्मणस्पति शब्द आया है। यह बृहस्पति देव के लिए प्रयुक्त हुआ है। बृहस्पति देव बुद्धि और ज्ञान के देव हैं। इसलिए गणपति देव को भी बुद्धि और विवेक का देव माना गया है। किसी भी कार्य की सिद्धि बिना बुद्धि और विवेक के नहीं हो सकती। इसलिए हर कार्य की सिद्धि के लिए बृहस्पतिदेव के प्रतीकात्मक रूप में गणेशजी की पूजा होती है। गणेश पुराण में...
    August 31, 06:00 AM
  • ये है भगवान श्रीगणेश का परिवार, सभी का है अपना खास महत्व
    उज्जैन।इस बार गणेशोत्सव की शुरूआत 29 अगस्त, शुक्रवार से हो चुकी है। इन 10 दिनों में भगवान श्रीगणेश के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाएगी तथा विभिन्न उपायों से उन्हें प्रसन्न करने का प्रयास भी किया जाएगा। श्रीगणेश भगवान शिव व पार्वती के पुत्र हैं, ये बात हम सभी जानते हैं, लेकिन श्रीगणेश के संपूर्ण परिवार के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। आज हम आपको श्रीगणेश के पूरे परिवार के बारे में बता रहे हैं। गणपति अकेले ऐसे देवता हैं, जिनके परिवार का हर सदस्य पूजनीय और मनोकामना पूरी करने वाला है। इनमें से...
    August 31, 01:00 AM
  • ऋषिपंचमी कल, जानिए इस व्रत का महत्व व संपूर्ण विधि
    उज्जैन।भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को ऋषिपंचमी कहते हैं। इस दिन महिलाएं व्रत करती हैं। यह व्रत ज्ञात-अज्ञात पापों का दोष दूर करने के लिए किया जाता है। इस बार यह व्रत 30 अगस्त, शनिवार को है। धर्म शास्त्रों के अनुसार यह व्रत स्त्री व पुरुष दोनों कर सकते हैं, लेकिन वर्तमान में यह व्रत केवल महिला प्रधान ही माना जाता है। स्त्रियों से रजस्वला अवस्था में घर के बर्तन आदि का स्पर्श हो जाने से लगने वाले पाप के शमन के लिए यह व्रत किया जाता है। इस व्रत में मुख्य रूप से सप्तर्षियों सहित अरुंधती का...
    August 29, 06:00 AM
  • आज भूल से देख लें चांद तो जानिए क्या करें, ये हैं रोचक कथाएं
    उज्जैन। आज (29 अगस्त, शुक्रवार) गणेश चतुर्थी है। भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी का नाम शिवा है, अत: शिवा नाम से चतुर्थी का व्रतोत्सव करने से गणेश कृपा से चतुर्थी का फल सौ गुना अधिक प्राप्त होता है। इस चतुर्थी को पत्थर चतुर्थी भी कहते हैं। धारणा है कि इस दिन घरों पर पत्थर फेंकने से चोरी का भय नष्ट होता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार सिंह/कन्या युक्त इस चतुर्थी को चंद्र दर्शन नहीं करते हैं, इस रात्रि को चंद्र दर्शन करने से झूठे आरोप लगते हैं। यदि चंद्र दर्शन हो जाएं तो इस मंत्र का जाप करना चाहिए- सिंह: प्रसेन...
    August 29, 06:00 AM
  • जानिए, मिट्टी की ही गणेश प्रतिमा की स्थापना क्यों करेंं
    उज्जैन।श्रीगणेश प्रतिमा का निर्माण मिट्टी से करना ही श्रेष्ठ होता है क्योंकि ये न केवल पर्यावरण के लिए उपयुक्त है बल्कि शास्त्र सम्मत भी है। इसका रहस्य गणेशजी के जन्म की कथा में ही छुपा हुआ है। धर्म ग्रंथों के अनुसार माता पार्वती ने मिट्टी से एक बालक गढ़ा। (कई ग्रंथों में यह उबटन से निर्मित भी बताया जाता है।) उसमें प्राण फूंके और देवी स्नान के लिए चली गईं। यह बालक मां की आज्ञा से द्वार पर पहरा देने लगा। शिवजी का आगमन हुआ और बालक ने उन्हें भीतर जाने से रोका तो क्रोध में शिवजी ने बालक का सिर काट...
    August 29, 06:00 AM
  • विजय मुहूर्त में करें गणेश स्थापना, जानिए पूजन विधि व सावधानियां
    उज्जैन। धर्म ग्रंथों के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को भगवान श्रीगणेश का जन्म हुआ था। इसीलिए इस चतुर्थी को विनायक चतुर्थी, सिद्धिविनायक चतुर्थी और श्रीगणेश चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। इस बार गणेश चतुर्थी का पर्व 29 अगस्त, शुक्रवार को है। ग्रंथों के अनुसार इस दिन जो स्नान, उपवास और दान किया जाता है, उसका फल भगवान श्रीगणेश की कृपा से सौ गुना हो जाता है। व्रत करने से मनोवांछित फल मिलता है। इस दिन श्रीगणेश भगवान का पूजन व व्रत इस प्रकार करें- विधि   सुबह जल्दी उठकर स्नान...
    August 28, 05:59 PM
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें