Home >> Jeevan Mantra >> Dharm >> Utsav
  • श्रावण कृष्ण त्रयोदशी: आज इस विधि से करें भगवान महादेव का पूजन
    उज्जैन। धर्म ग्रंथों के अनुसार श्रावण कृष्ण त्रयोदशी (इस बार 24 जुलाई, गुरुवार) के देवता कामदेव हैं, जो हमारे मन में काम भाव का संचार करते हैं। इस दिन विधि-विधान से भगवान शिव का पूजन करने से काम भाव से हमारी रक्षा होती है। इस तिथि को स्वर्ण दान करने का विधान बताया गया है, जिससे मनचाहे फलों की प्राप्ति होती है। इस तिथि को भगवान शिव के निमित्त प्रदोष व्रत भी किया जाता है। इस बार गुरु प्रदोष व्रत का योग बन रहा है। धर्म शास्त्रों के अनुसार गुरु प्रदोष व्रत करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है...
    06:00 AM
  • गुरु प्रदोष आज: ये है इस व्रत की संपूर्ण पूजन विधि व महत्व
    उज्जैन। धर्म ग्रंथों के अनुसार प्रत्येक मास की त्रयोदशी तिथि को भगवान शिव के निमित्त प्रदोष व्रत किया जाता है। यह तिथि जिस दिन पड़ती है, उस वार के साथ संयोग कर इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। पंचांग के अनुसार इस बार 24 जुलाई, गुरुवार के दिन प्रदोष होने से गुरु प्रदोष का योग बन रहा है। धर्म ग्रंथों के अनुसार गुरु प्रदोष व्रत करने से शत्रुओं का विनाश हो जाता है। इस व्रत की विधि इस प्रकार है- - प्रदोष व्रत में बिना जल पीए व्रत रखना होता है। सुबह स्नान करके भगवान शंकर, पार्वती और नंदी को पंचामृत व गंगाजल...
    06:00 AM
  • आज भी भटक रहा है भगवान शिव का ये अवतार, यहां देता है दिखाई!
    फोटो- असीरगढ़ का किला उज्जैन। इन दिनों पवित्र श्रावण (सावन) मास चल रहा है। ये महीने भगवान शिव की भक्ति के लिए प्रसिद्ध है। यही उचित समय है भगवान शिव के चरित्र, स्वरूप व अवतारों के बारे में जानने का। धर्म ग्रंथों में भगवान शंकर के अनेक अवतारों का वर्णन भी मिलता है। उनमें से एक अवतार ऐसा भी है, जो आज भी पृथ्वी पर अपनी मुक्ति के लिए भटक रहा है। ये अवतार हैं गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र अश्वत्थामा का। द्वापरयुग में जब कौरव व पांडवों में युद्ध हुआ था, तब अश्वत्थामा ने कौरवों का साथ दिया था। महाभारत के...
    01:00 AM
  • बुधवार को करें भगवान शिव और विष्णु का पूजन
    उज्जैन। वैसे तो पूरा श्रावण मास ही शिव की आराधना के लिए उत्तम माना गया है, लेकिन फिर भी यदि कुछ विशेष तिथि को खास विधि द्वारा शिव का पूजन किया जाए तो साधक को अतिशीघ्र उसका फल मिलता है। ऐसा धर्म शास्त्रों में भी उल्लेखित है। धर्म शास्त्रों के अनुसार श्रावण कृष्ण द्वादशी तिथि (इस बार 23 जुलाई, बुधवार) के देवता सच्चिदानंद भगवान विष्णु हैं। इस दिन भगवान शिव के साथ विष्णु का भी पूजन करने से विशेष फल मिलता है। इस तिथि को श्वेत वस्त्र दान करने का विधान भी है। इस दिन भगवान शिव को बिल्व पत्र तथा विष्णु को...
    July 23, 06:00 AM
  • कामिका एकादशी आज: जानिए इस व्रत की कथा, महत्व व व्रत विधि
    उज्जैन।हिंदू धर्म में एकादशी का बहुत महत्व है। श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को कामिका एकादशी कहते हैं। धर्म शास्त्रों के अनुसार जो मनुष्य इस दिन भगवान विष्णु का पूजन करता है, उससे देवता, गंधर्व और सूर्य आदि सभी की भी पूजा हो जाती है। इस बार कामिका एकादशी का व्रत 22 जुलाई, मंगलवार को है। इस व्रत से जुड़ी कथा इस प्रकार है- एक गांव में एक वीर क्षत्रिय रहता था। एक दिन किसी कारणवश उसकी ब्राह्मण से हाथापाई हो गई और ब्राह्मण की मृत्यु हो गई। अपने हाथों मारे गए ब्राह्मण की क्रिया उस क्षत्रिय ने...
    July 22, 06:00 AM
  • सावन की एकादशी आज, इस विधि से करें भगवान शिव की पूजा
    उज्जैन। वैसे तो पूरा सावन (श्रावण) मास ही शिव को समर्पित है, लेकिन पुराणों में आए उल्लेख के अनुसार श्रावण कृष्ण एकादशी के प्रमुख देव विश्वेदेवा हैं। ऐसी मान्यता है कि श्रावण कृष्ण एकादशी को शिव का विधि-विधान पूर्वक पूजन करने से समस्त देवताओं का पूजन हो जाता है। ज्योतिष के अनुसार इस तिथि को यदि शिव का बिल्वपत्र, धतूरा व आंकड़े के फूल से पूजन किया जाए तो व्यापार-व्यवसाय में उन्नति होती है। इस दिन पीले वस्त्र दान करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। इस तिथि को कामिका एकादशी के नाम से भी जाना...
    July 22, 06:00 AM
  • ये हैं शिव के 19 अवतार, वीरभद्र ने किया था सती के पिता का वध
    उज्जैन।इन दिनों भगवान शिव का प्रिय पवित्र सावन मास चल रहा है। ये बहुत ही उचित अवसर है, भगवान शिव के चरित्र, स्वरूप व अवतारों के बारे में जानने का। पुराणों के अनुसार शिव का अर्थ ही है कल्याण स्वरूप व कल्याण करने वाला। भगवान शिव सदैव अपने भक्तों पर कृपा बनाए रखते हैं। महादेव ने अनेक अवतार लेकर अपने भक्तों की रक्षा की है। शिवपुराण में भगवान शिव के अनेक अवतारों का वर्णन मिलता है, लेकिन बहुत ही कम लोग इन अवतारों के बारे में जानते हैं। सावन के पवित्र महीने में हम आपको बता रहे हैं, भगवान शिव के 19...
    July 21, 01:55 PM
  • श्रावण कृष्ण दशमी आज, करें गायत्री मंत्र से करें शिव का पूजन
    उज्जैन।श्रावण महीना आते ही मन में धर्म व अध्यात्म का प्रकाश फैल जाता है। श्रावण महीने में सत्संग सुनने का विशेष लाभ मिलता है। यह महीना शिव की आराधना के लिए अति उत्तम माना गया है। पुराणों में वर्णित है कि इस मास में सच्चे मन से शिव की आराधना से शिव प्रसन्न होते हैं। इस महीने की हर तिथि का भी अपना विशेष महत्व है। विशेष तिथि को शिव का विशेष पूजन-अर्चन करने से सभी सुखों का लाभ मिलता है। श्रावण कृष्ण दशमी (इस बार 21 जुलाई, सोमवार) तिथि मां गायत्री को समर्पित है। इस दिन भगवान शिव का सामने गायत्री मंत्र का...
    July 21, 06:00 AM
  • शिव के अवतार थे पिप्पलाद मुनि, इन्होंने किया था शनि पर प्रहार
    उज्जैन।इन दिनों पवित्र श्रावण मास चल रहा है। इस महीने में भगवान शिव के पूजन करने का विशेष महत्व है। हमारे धर्म ग्रंथों में भगवान शिव की अनेक अवतारों के बारे में भी बताया गया है लेकिन बहुत कम लोग शिव के इन अवतारों के बारे में जानते हैं। आज हम आपको भगवान शिव के एक ऐसे अवतार के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने शनिदेव पर भी प्रहार कर दिया था, जिसके कारण शनिदेव की गति मंद हो गई। दधीचि मुनि के पुत्र थे पिप्पलाद पुराणों के अनुसार भगवान शंकर ने अपने परम भक्त दधीचि मुनि के यहां पुत्र रूप में जन्म लिया।...
    July 20, 06:00 AM
  • रविवार को करें शिव-शक्ति की पूजा, मिलेगा मनचाहा जीवनसाथी
    उज्जैन। श्रावण कृष्ण नवमी तिथि (इस बार 20 जुलाई, रविवार) की आराध्य शक्तिस्वरूपा देवी मां दुर्गा हैं। जो इस तिथि को शिव व शक्ति की संयुक्त रूप से विधि-विधान पूर्वक पूजा करता है उसे शिव लोक प्राप्त होता है। इस तिथि के दिन पीले वस्त्र दान करने से धन, वैभव व ऐश्वर्य प्राप्त होता है। युवतियां अगर इस दिन शिव-शक्ति की पूजा करें तो मनचाहा वर मिलता है। श्रावण कृष्ण नवमी को कुमारी पूजा का भी विधान है। मान्यता के अनुसार कन्याओं को सम्मान देने के लिए यह व्रत किया जाता है। कुमारी पूजा के साथ कुमारी कन्याओं को...
    July 20, 06:00 AM
  • किस रुद्राक्ष को पहनने से होता है क्या, जानिए शिवपुराण में लिखी है ये बातें
    फोटो- एकमुखी रुद्राक्ष उज्जैन। भगवान शिव भस्म रमाते हैं और नाग उनका आभूषण है। शिव के तीन नेत्र हैं और वे चंद्रमा को अपने मस्तक पर धारण करते हैं। ऐसी अनेक बातें हैं जो भगवान शिव के स्वरूप से जुड़ी हैं। इसी प्रकार रुद्राक्ष भी भगवान शिव के स्वरूप से जुड़ा है। शिवपुराण की विद्येश्वर संहिता में रुद्राक्ष के 14 प्रकार बताए गए हैं। एकमुखी रुद्राक्ष धारण करने वाला कभी गरीब नहीं होता, ऐसा शिवपुराण में लिखा है। जानिए कैसे हुई रुद्राक्ष की उत्पत्ति रुद्राक्ष का अर्थ है रुद्र अर्थात शिव की आंख से...
    July 19, 05:34 PM
  • श्रावण: शनिवार को करें शिव का रुद्राभिषेक, मिलेगा मनचाहा फल
    उज्जैन।वैसे तो पूरा श्रावण मास ही भगवान शिव की आराधना के लिए उत्तम माना गया है, लेकिन फिर भी यदि कुछ विशेष तिथि को खास विधि द्वारा शिव का पूजन किया जाए तो साधक को अतिशीघ्र उसका फल मिलता है। ऐसा धर्म शास्त्रों में भी लिखा है। श्रावण कृष्ण अष्टमी तिथि (इस बार 19 जुलाई, शनिवार) के स्वामी स्वयं भगवान शिव हैं। इस दिन शिव का रुद्राभिषेक द्वारा पूजन करने से तीनों लोक में ऐसी कोई वस्तु नहीं जो शिव प्रदान नहीं करते। इस तिथि को लाल वस्त्रों तथा अन्य लाल वस्तुओं का दान करने से शिव मनोवांछित फल प्रदान करते...
    July 19, 06:00 AM
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें