पुस्तक में बंद ज्ञान और दूसरे को दिया गया धन। ये दोनों दिखते तो हमारे हैं लेकिन समय पड़ने पर काम नहीं आते। - हितोपदेश