Home >> Jeevan Mantra >> Dharm >> Gyan
  • महाभारत- किसी की इन बातों से ईर्ष्या करती है नुकसान
    उज्जैन।हर व्यक्ति के सोच व स्वभाव में गुण-दोष होते हैं। जहां गुण मान-प्रतिष्ठा और यश देते हैं, वहीं दोषों से अपयश ही नहीं मिलता, बल्कि कुछ दोष तो खूबियों को भी दफन कर देते हैं। ये दोष इंसान की सबसे बड़ी कमजोरी बन जाते हैं और बुरी लत की तरह आखिरकार बुरे नतीजे देकर पहचान व प्रतिष्ठा को नुकसान ही नहीं पहुंचाते, बल्कि दूसरों का भरोसा भी खत्म कर देते हैं। हिन्दू धर्म ग्रंथ महाभारत में भी सफल और सुखी जीवन के लिए रोग की तरह घातक एक ऐसे ही स्भाविक दोष से बचने का सबक दिया गया है। अगली स्लाइड पर जानिए क्या है...
    03:00 AM
  • ये बातें ध्यान रख करना चाहिए शिवलिंग की परिक्रमा
    उज्जैन।देव उपासना में देवी-देवताओं की परिक्रमा का महत्व है। शास्त्रों में इनकी संख्या भी अलग-अलग बताई गई है। इसी कड़ी में शिव पूजा में शिवलिंग परिक्रमा का विशेष महत्व है, लेकिन शास्त्रों में शिव परिक्रमा के लिए मर्यादाएं नियत है। किंतु इसकी जानकारी के अभाव में भक्त देव अपराध के भागी बनते हैं। हर वह शिव भक्त, जो शिव की पूजा कर कामनाओं को पूरा करना चाहते हैं, पूरी श्रद्धा, आस्था के साथ शिवलिंग परिक्रमा में इन मर्यादाओं का पालन करें। हिन्दू देव पूजा परंपराओं में जहां अन्य कई देवताओं की पूरी...
    July 28, 03:00 AM
  • ये हैं सुखी व स्वस्थ रहने के शास्त्रों में बताए 11 खास उपाय
    उज्जैन।ज़िंदगी में शांति न हो तो बड़े से बड़े सुखों में भी व्यक्ति खुद को अभावग्रस्त महसूस करता है। वैसे तो, सुकूनभरी व सफल ज़िंदगी के सूत्र हर धर्म में बताए गए हैं, किंतु सनातन धर्म में कई संस्कारों, उपदेशों व परंपराओं के जरिए उजागर रहने और जीने के सलीके खुशी के साथ मन में गहरी शांति भी देते हैं। जानिए, ऐसी ही 11 खास बातें, जिनको अपनाकर भरपूर शक्ति और शांति हर दिन बटोरी जा सकती है- 1. दूसरों में अपना रूप देखें, तभी वास्तविक प्रेम व मेलजोल से जीवन गुजारना संभव होगा। 2. यह कभी न भूलें कि मृत्यु तय है।...
    July 27, 03:00 AM
  • किस देवता की पूजा में रखें किस बात का ध्यान?
    उज्जैन। धर्म और अध्यात्म के रास्ते सुखी जीवन की चाहत पूरी करने के लिए प्रतिदिन देव स्मरण भी सरल तरीका माना गया है। यह देव भक्ति, कामना व कार्यसिद्धि द्वारा शक्ति व सुखी संपन्न बनने का साधन मात्र नहीं है, बल्कि सुख-समृद्धि के साथ ही शांति की चाहत भी पूरी करने वाला होता है। वैसे भक्ति में भावना प्रधान होती है। भावों से भरी भक्ति देव दोष से मुक्त होती है, किंतु शास्त्रों में विधि-विधान से की जाने वाली पूजा में जाने-अनजाने देव दोष से बचने के लिए कुछ खास बातों का ख्याल रखना भी जरूरी बताया गया है।...
    July 26, 03:00 AM
  • महाभारत में बताए हैं जल्द लक्ष्य पाने के ये 7 मूलमंत्र
    उज्जैन। सफलता हर इंसान की चाहत होती है, लेकिन अक्सर देखा जाता है कि सफलता सभी को नहीं मिलती है। आखिर ऐसा क्यों होता है? इस संबंध में कई कारण ढूंढे जा सकते हैं। किंतु मोटे तौर कामयाबी नसीब न होने के पीछे लक्ष्य को लेकर उदासीनता, विचार और कर्म में सही तालमेल का अभाव बड़ा कारण नजर आता है। यही नहीं, सफलता में निरंतरता भी अहम होती है, क्योंकि उसके बिना तरक्की संभव नहीं। किंतु अगर मकसद साफ हो, सही विचार हो और कर्मशक्ति भी मौजूद हो तब भी सफलता और तरक्की दूर रह जाए तो फिर इसके क्या कारण हो सकते हैं? इस...
    July 26, 03:00 AM
  • सुख व शांति के लिए हर पुरुष व स्त्री को करना चाहिए ये 8 शास्त्रोक्त कर्म
    उज्जैन। शास्त्रों के मुताबिक पाप इंसान के दु:ख और पतन का कारण तो पुण्य सुख और तरक्की का कारण होते हैं। किंतु जीवन की भागदौड़ भी पाप या पुण्य कर्मों पर गहराई से विचार का वक्त नहीं देती। यही वजह है कि सुख या दु:ख और होनी-अनहोनी का सामना इंसान को करना ही पड़ता है। इनके बावजूद हर इंसान के अंदर अच्छाई व भलाई से जुड़ने का भाव कहीं न कहीं मौजूद रहता है। शास्त्रों में मन, वचन और कर्म से जुड़े कई पाप-पुण्य बताए गए हैं, जिनकी गहरी जानकारी हर इंसान को नहीं होती। इसलिए यहां बताई जा रही है शास्त्रों में उजागर...
    July 25, 03:05 AM
  • शास्त्र ज्ञान- युवावस्था में नहीं करना चाहिए ये 3 काम
    उज्जैन। आज तमाम सुख-सुविधाओं को बटोरने की आपाधापी में कई लोग कुछ मौकों पर मानवीय मूल्यों को ताक पर रख स्वार्थ या हित तो साध लेते हैं, लेकिन ऐसे व्यवहार या स्वभाव का बुरा असर गलत संस्कारों के जरिए किसी न किसी रूप अगली पीढ़ी तक भी पहुंचना तय हो जाता है। खास तौर पर युवा पीढ़ी की ऊर्जा और विचारों को संस्कारों, मेहनत और ज्ञान की और न मोड़ा जाए तो सुख-सुविधाओं की चकाचौंध में सब कुछ जल्द और आसान पाने की सोच से कोई भी युवा ऐसी आदतों व कमजोरियों का शिकार हो सकता है, जो आखिरकार अपशय व निराशा के साथ असफल जीवन...
    July 24, 04:47 PM
  • मनुस्मृति- बलवान व प्रसन्न रहने के लिए करें ये पांच काम
    उज्जैन। प्राचीन हिन्दू धर्म ग्रंथ मनुस्मृति में इंसान को दोष और बुराइयों से बचकर जीवनभर सुख बटोरने के लिए ऐसे 5 काम या यूं कहें कि सबक उजागर हैं, जो व्यावहारिक जीवन में कोई भी इंसान अपनाकर मनचाहे नतीजे पाने की राह आसान बना सकता है। दरअसल, इंसानी स्वभाव का एक पहलू यह भी है कि वह दूसरों की कमियों को ढूंढता है, मगर दु:खों का कारण बनने वाली अपनी कमजोरियों के बारे में सोचने से बचता रहता है। जबकि जीवन में शुभ और अच्छे फलों के लिए जरूरी है- बेहतर कोशिशें और असफलताओं से सबक लेकर कमियों और दोषों को दूर...
    July 23, 03:02 AM
  • सुखी व शांत रहने के लिए रामायण में है यह खास उपाय
    उज्जैन।आज इंसान पर भौतिक सुखों की चाहत इतनी हावी दिखाई देती है कि वह सही और गलत का फर्क समझकर भी नजरअंदाज कर देता है। यही विवेकहीनता भविष्य में जीवन में अशांति घोल देती है। जबकि सुखी और सफल जीवन बनाने में मात्र धन या सुविधाएं ही अहम नहीं होती, बल्कि वह सारे रिश्ते, भावनाएं व अदृश्य देव कृपा भी महत्व रखती हैं, जिनके बीच या साथ कोई व्यक्ति पनपता और जुड़ा रहता है। हिन्दू धर्म ग्रंथ श्रीरामचरितमानस भी व्यावहारिक ज़िंदगी से जुड़ी 1 ऐसी ही अहम बात, जिसके बगैर किसी भी व्यक्ति का सुख और शांति से जीना...
    July 22, 03:06 AM
  • श्रीकृष्ण की नीतियों में समाए हैं सफलता के ये कारगर सूत्र
    उज्जैन।आजकई लोग चाहे घर हो या कार्यालय में अपनी जीवनशैली, दिनचर्या और वक्त के कुप्रबंधन की वजह से परेशान और तनाव में रहते हैं। ऐसे हालात से निजी जीवन से लेकर नौकरी या कारोबार से जुड़े सभी कामों पर बुरा असर पड़ता है। सही योजना और प्रबंधन की कमी से तमाम जद्दोजहद करने के बाद भी मनचाहे नतीजे नहीं मिल पाते। अनुभव और कुशलता से ऐसे परिणामों से बचा जा सकता है, लेकिन अगर अध्यात्म और धर्म के जरिए सफलता के गुर व कुछ रणनीति सीखना चाहें तो भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से कुछ सूत्र सीखे जा सकते हैं। भगवान...
    July 20, 03:28 AM
  • स्त्री को सुख देने वाले ये सूत्र अपनाने से परिवार पर होती है लक्ष्मी कृपा
    उज्जैन। हिन्दू धर्म में किसी भी स्त्री का सम्मान व सेवा अहम जीवन मूल्य बताया गया हैं। धर्म परंपराओं में देवी के कई रूप हो या फिर सांसारिक नजरिए से माता से शुरू होकर बहन सहित स्त्री से अलग-अलग रूपों में रिश्ते, हर इंसान के लिए ताउम्र स्त्री की अहमियत उजागर कर उसकी गरिमा को कायम रखने का जज्बा देते हैं। खास तौर पर गृहस्थी का तो केन्द्र ही स्त्री को माना गया है। देवी-देवताओं के स्मरण जैसे राधा-कृष्ण या सीता-राम में पहले देवी नामों को बोलना भी पुरुष के जीवन में स्त्री के सम्मान और उससे जुड़े किसी भी...
    July 19, 05:47 PM
  • सुखी गृहस्थ जीवन के लिए ध्यान रखें 1 प्राचीन हिन्दू धर्मग्रंथ के ये सूत्र
    उज्जैन।सनातन संस्कृति व दर्शन, जड़ यानी बेजान चीजों या विषय में भी चैतन्यता यानी जीवन को ढूंढ, सकारात्मक सोच के जरिए सही तरीके से जीने के कई सूत्र उजागर करता है। वैदिक काल से ही कई पशु-पक्षियों के किस्से-कहानियों से सराबोर धार्मिक कथा साहित्य के जरिए उजागर व्यावहारिक शिक्षा व नीतियां इसका प्रमाण भी हैं। इसी कड़ी में खासकर हितोपदेश बड़ा रोचक और प्रसिद्ध कथा साहित्य है। इसकी कथाओं के मुख्य चरित्र पशु-पक्षी ही हैं, जिनके जरिए असल में, इंसानों के आचरण व प्रवृत्तियों को उजागर किया गया है। इनमें...
    July 18, 02:43 PM
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें