• जीवन में इस 1 उपाय के बिना नहीं मिल पाती है शांति
    उज्जैन। सच का दायरा बोल तक खत्म नहीं होता, बल्कि उसका महत्व तभी है, जब बोल को कर्म में उतार दिया जाए। अगर हम झूठ के सहारे चलते हैं तो कभी भी भीतर से शांत नहीं रह सकते यानी शांति के लिए सत्य जरूरी है। सारे हिन्दू धर्मग्रंथों की जीवन से जुड़ी सीखों के सार में सुख-शांति व धर्म का पालन के लिए जीवन में सत्य को उतारने का ही संदेश समाया हैं। अक्सर हम परिवार, दोस्तों और सहकर्मियों के साथ होने पर कई बार यह सुनते और कहते हैं कि कथनी और करनी में अंतर नहीं होना चाहिए। जबकि इस बात का व्यावहारिक पक्ष देखने पर यह...
    July 2, 07:11[IST]
  • सरसों के तेल का यह खास उपाय करने से घर में बढ़ती है खुशहाली
    उज्जैन। हिन्दू धर्म परंपराओं में शनिवार का दिन धर्म के नजरिए से बड़ा ही शुभ है। दरअसल, यह दिन खासतौर पर सच व न्याय को मन, कर्म व वचन में उतारने के संकल्पों की प्रेरणा देता है। क्योंकि यह दण्डाधिकारी शनिदेव की उपासना का शुभ काल है। सही मायनों में ऐसे ही संकल्प दु:ख और कष्टों से छुटकारा देने व हित करने वाले होते हैं। चाहे फिर ये शनिदेव के लिए आस्था से या फिर उनके दण्ड के भय से ही क्यों न लिए जाएं। भाग्यविधाता शनि के लिए धर्म आस्था यह भी है कि शनि कृपा से कोई भी इंसान किस्मत का धनी बन सकता है और विपरीत...
    May 30, 03:42[IST]
  • ये 3 काम जवानी में देते हैं असफलता व बुढ़ापे में अशांति
    उज्जैन। आज तमाम सुखों को बटोरने की आपाधापी में या सुविधाओं को पाने के लिए उतावले कुछ लोग कई बार मानवीय मूल्यों को ताक पर रख स्वार्थ या हित तो साध लेते हैं, लेकिन ऐसे व्यवहार या स्वभाव का बुरा असर गलत संस्कारों के जरिए किसी न किसी रूप अगली पीढ़ी तक भी पहुंचना तय हो जाता है। खास तौर पर युवा पीढ़ी की ऊर्जा और विचारों को संस्कारों, मेहनत और ज्ञान की और न मोड़ा जाए तो सुख-सुविधाओं की चकाचौंध में सब कुछ जल्द और आसान पाने की सोच से कोई भी नौजवान ऐसी आदतों व कमजोरियों का शिकार हो सकता है जो आखिरकार अपयश व...
    May 4, 08:17[IST]
  • रोज शास्त्रों के इन 5 उपायों से घर में बनी रहती है खुशहाली व शांति
    उज्जैन। सनातन धर्म परंपराओं में यज्ञ-हवन के पीछे त्याग और विश्व कल्याण का भाव समाया है। कई तरह के यज्ञ से जुड़ी परोपकार की भावना किसी भी इंसान को स्वार्थ, अहं की भावना से दूर कर दोष और पापरहित बनाने वाली होती है। शास्त्रों में यज्ञों के अलग-अलग स्वरूपों में पांच यज्ञ ऐसे भी बताए गए हैं, जो घर में हुए अनचाहे-अनजाने पाप और दोष का नाश करते हैं। ये कर्म, विचार और व्यवहार को पवित्र बनाकर जीवन और गृहस्थी में अपार सुख-शांति व समृद्धि लाने वाले माने गए हैं, जिन्हें स्वर्ग के समान सुख भी पुकारा जाता है।...
    April 30, 04:00[IST]
  • सुख, शांति व लक्ष्मी कृपा चाहें तो सुबह करें तुलसी से यह खास उपाय
    उज्जैन। शालिग्राम शिला साक्षात् भगवान विष्णु का स्वरूप मानी जाती है। इसलिए जहां शालिग्राम शिला होती है, वह स्थान तीर्थ के समान पुण्यदायी माना गया है। यही नहीं, शालिग्राम शिला और भगवती स्वरूपा तुलसी का योग तो सारे अभाव, कलह, पाप और संताप को दूर करने वाला माना गया है। यही वजह है कि विष्णु भक्ति के वैशाख महीने (16 अप्रैल से शुरू) में भी शालिग्राम-तुलसी उपासना ज्ञान, धन, स्वास्थ्य, विद्या, प्रतिष्ठा व यश देने वाली मानी गई है। जीवन में ऐसे ही मंगल के लिए शास्त्रों में ऐसे भी छोटे-छोटे उपाय भी बताए गए...
    April 21, 04:00[IST]
  • चैत्र नवरात्रि: मन की शांति चाहिए तो आज करें मां महागौरी की पूजा
    उज्जैन। चैत्र नवरात्रि के आठवें दिन (7 अप्रैल, सोमवार) मां महागौरी की पूजा की जाती है। आदिशक्ति श्री दुर्गा का अष्टम रूप श्री महागौरी हैं। मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है। इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। नवरात्रि का आठवां दिन हमारे शरीर का सोमचक्रजागृत करने का दिन है। सोमचक्र उर्ध्व ललाट में स्थित होता है। आठवें दिन साधना करते हुए अपना ध्यान इसी चक्रपर लगाना चाहिए। श्री महागौरी की आराधना से सोमचक्र जागृत हो जाता है और इस चक्र से संबंधित सभी शक्तियां श्रद्धालु को प्राप्त हो...
    April 7, 06:00[IST]
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 
 
 
 
 
 

रोचक खबरें

 
 
 
 
 
 
विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 
 
 
 
 
 

स्पोर्ट्स

 
 
 
 
 
 

बिज़नेस

 
 
 
 
 
 

जोक्स

 
 
 
 
 
 

पसंदीदा खबरें

 
 
 
 
 
 

फोटो फीचर