• ये 5 कहानियां आपके सोचने और समझने का तरीका बदल सकती हैं
    अकबर को वापस लेना पड़ा विचित्र आदेश एक दिन बादशाह अकबर जब दरबार में आए तो बहुत क्रोध में थे। सभी बादशाह के गर्म मिजाज को भांपकर चुप ही रहे। दरबार समाप्त होने पर बीरबल ने अकबर से गुस्से की वजह जाननी चाही तो वे बोले, मेरा दामाद बहुत दुष्ट है। मुझे अपनी बेटी से मिले एक साल हो गया, किंतु वह उसे भेजता ही नहीं है। बीरबल ने कहा, जहांपनाह! इसमें गुस्से की क्या बात है? मैं आज ही आपकी बेटी को लाने के लिए आदमी भेज देता हूं। अकबर बोले, आदमी तो मैंने भी भेजा था, किंतु दामाद ने उसे खाली हाथ लौटा दिया। वास्तव में...
    April 12, 02:14[IST]
  • प्रेरक कहानी- मुश्किलों की धूल झाड़ो और आगे बढ़ो
    वर्षों पुरानी बात है। एक गरीब किसान के पास बूढ़ा खच्चर था। एक दिन खच्चर गहरे सूखे कुएं में गिर गया और जोर-जोर से चीखने लगा। खच्चर की चीखने की आवाज सुनकर किसान घर से बाहर आया। उसने हालात का जायजा लिया। कुआं बहुत गहरा और खच्चर भारी था। उसने अनुमान लगाया कि खच्चर को बाहर निकालना यदि असंभव नहीं तो बहुत मुश्किल जरूर है, क्योंकि खच्चर बूढ़ा और कुआं गहरा था। किसान ने उसे कुएं में ही जिंदा दफनाने का निर्णय लिया। सोचा, इससे दो समस्याओं का अंत हो जाएगा। बूढ़े खच्चर को उसके कष्ट से छुटकारा मिल जाएगा और कुआं...
    February 18, 12:05[IST]
  • 10 दिलचस्प सवाल! जो देते हैं मुश्किलों से पार पाने की जबर्दस्त ताकत
    आज का समय रफ्तार और भाग-दौड़ से भरा है। शास्त्रों में युगों पहले लिखी बातों का भी सार यही है कि कलियुग में कामनाएं हावी होंगी। अक्सर नजर आता है कि जरूरत, उम्मीदें, महत्वाकांक्षा व स्वार्थ कई तरह से मन-मस्तिष्क पर सवार होती हैं। इन को पूरा करने के लिए ही तन व मन चलते रहते हैं। जहां इच्छाओं का पूरा होना सुखी व शांत रखता है, तो अभाव कई दोषों को पैदा करता है।बहरहाल, आज के जीने के तरीकों पर गौर करें तो अधूरी इच्छाओं से पैदा कुंठा या कलह ही इंसान पर हावी दिखाई देता है। इससे निराशा और असफलता में डूबा इंसान...
    October 13, 02:59[IST]
  • श्रीकृष्ण की इस खास आरती के बोल रग-रग में भर दे जीने की उमंग
    भगवान श्रीकृष्ण की इस आरती केशब्द, सुर और राग सुनकर हर भक्त आनंद से झूम जाता है। इसमें उजागर गिरधर यानीश्रीकृष्ण का मोहक स्वरूप जानकर जीवन के सारे तनाव व दबाव काफूर हो जाते हैं। श्रीकृष्ण का जन्म उत्सव उमंग और उल्लास की ही घड़ी होती है। आप भी इस श्रीकृष्णआरती को गाकर झूमें और परेशानियों को पीछे छोड दें - आरती कुँज बिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥गले में वैजन्ती माला,बजावे मुरली मधुर बाला,श्रवण में कुण्डल झलकाला,नन्द के नन्द,श्री आनन्द कन्द,मोहन बॄज चन्दराधिका रमण बिहारी कीश्री गिरिधर...
    August 4, 05:59[IST]
  • बोलें ये हनुमान मंत्र, पाएं आगे बढऩे का जबर्दस्त हौंसला
    धन, स्वास्थ्य, सुविधा, जरिया होने के साथ ही कामयाबी या विपरीत हालात से बाहर आने के लिए एक ओर बात मायने रखती है। वह है - हौंसला, उत्साह या उमंग। किंतु उतार-चढ़ाव भी जीवन का हिस्सा है। इसलिए अचानक मिले दु:ख या जी-तोड़ मेहनत के बाद भी मिली नाकामयाबी इंसान के हौंसलों को कमजोर करती है। ऐसी हालात में हर कोई नई शुरुआत के लिए कुछ ऐसे उपाय की कामना करता है, जो फिर से नई ऊर्जा से भर दे।शास्त्रों में ऐसी ही मुश्किल हालातों से निपटने के लिए देव उपासना का महत्व बताया गया है। इसी कड़ी में उत्साह, ऊर्जा और उमंग पाने...
    May 8, 04:27[IST]
  • एक कहानी-...और एक राजा ही निकला सबसे बड़ा गरीब!
    महात्मा को एक बार रास्ते में पड़ा धन मिल गया। उन्होंने निश्चय किया कि वे इस सबसे गरीब आदमी को दान कर देंगे। निर्धन आदमी की तलाश में वे खूब घूमे। उन्हें कोई सुपात्र नहीं मिला। एक दिन उन्होंने देखा राजमार्ग पर राजा के साथ अस्त्र-शस्त्रों से सजी विशाल सेना चली आ रही है। राजा महात्मा को पहचानता था।हाथी से उतरकर उसने महात्मा को प्रणाम किया। महात्मा ने अपनी झोली से धन निकाला और राजा को थमा दिया। राजा ने विनीत स्वर में कहा महाराज! यह क्या? आपके आशीर्वाद से मेरे खजाने में हीरे-जवाहरात का भंडार है।...
    October 12, 01:16[IST]
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

रोचक खबरें

 
 
 
 
 
 
 
 
 
विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

स्पोर्ट्स

 
 
 
 
 
 
 
 
 

बिज़नेस

 
 
 
 
 
 
 
 
 

जोक्स

 
 
 
 
 
 
 
 
 

पसंदीदा खबरें

 
 
 
 
 
 
 
 
 

फोटो फीचर