• मोहब्बत और खुशियां बांटने का त्योहार ईद-उल-फितर कल
    उज्जैन।इस्लाम धर्म में पवित्र रमजान के पूरे महीने रोजे अर्थात् उपवास रखने के बादनया चांद देखने के अवसर पर ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया जाता है। यहरोजा तोडऩे के त्योहार के रूप में भी लोकप्रिय है। यह त्योहार रमजान के अंत में मनाया जाता है। इस बार यह पर्व 29 जुलाई, मंगलवार को है। मुस्लिम धर्मावलंबियों के लिए यह अवसर भोज और आनंद का होता है। फितर शब्द अरबी के फतर शब्द से बना। जिसका अर्थ होता है टूटना। इबादत या प्रार्थना, भोजन और मेल-मिलाप इस त्योहार की प्रमुख विशेषता है। इस दिन की रस्मों में सुबह सबसे...
    July 28, 06:00[IST]
  • सुख व शांति के लिए हर पुरुष व स्त्री को करना चाहिए ये 8 शास्त्रोक्त कर्म
    उज्जैन। शास्त्रों के मुताबिक पाप इंसान के दु:ख और पतन का कारण तो पुण्य सुख और तरक्की का कारण होते हैं। किंतु जीवन की भागदौड़ भी पाप या पुण्य कर्मों पर गहराई से विचार का वक्त नहीं देती। यही वजह है कि सुख या दु:ख और होनी-अनहोनी का सामना इंसान को करना ही पड़ता है। इनके बावजूद हर इंसान के अंदर अच्छाई व भलाई से जुड़ने का भाव कहीं न कहीं मौजूद रहता है। शास्त्रों में मन, वचन और कर्म से जुड़े कई पाप-पुण्य बताए गए हैं, जिनकी गहरी जानकारी हर इंसान को नहीं होती। इसलिए यहां बताई जा रही है शास्त्रों में उजागर...
    July 25, 03:05[IST]
  • सुखी व शांत रहने के लिए रामायण में है यह खास उपाय
    उज्जैन।आज इंसान पर भौतिक सुखों की चाहत इतनी हावी दिखाई देती है कि वह सही और गलत का फर्क समझकर भी नजरअंदाज कर देता है। यही विवेकहीनता भविष्य में जीवन में अशांति घोल देती है। जबकि सुखी और सफल जीवन बनाने में मात्र धन या सुविधाएं ही अहम नहीं होती, बल्कि वह सारे रिश्ते, भावनाएं व अदृश्य देव कृपा भी महत्व रखती हैं, जिनके बीच या साथ कोई व्यक्ति पनपता और जुड़ा रहता है। हिन्दू धर्म ग्रंथ श्रीरामचरितमानस भी व्यावहारिक ज़िंदगी से जुड़ी 1 ऐसी ही अहम बात, जिसके बगैर किसी भी व्यक्ति का सुख और शांति से जीना...
    July 22, 03:06[IST]
  • धतूरे से यह विशेष पूजा उपाय करता है खुशहाल
    उज्जैन।भगवान शिव की प्रसन्नता के लिए पूजा में कुछ विशेष पूजा सामग्रियों को चढ़ाने का महत्व है। इनमें बेलपत्र, सफेद फूल के साथ धतूरा चढ़ाना बड़ा शुभ माना जाता है। बेलपत्र की तरह धतूरा भी शिव को प्रिय बताया गया है। हालांकि, धतूरा जहरीला फल होता है, लेकिन सनातन धर्म से जुड़ा हर जन यह जानता है कि शिव ने समुद्र मंथन से निकले गरल यानी जहर को पीकर ही जगत की रक्षा की थी। शिव ने विषपान कर ही जगत को परोपकार, उदारता और सहनशीलता का संदेश दिया। शिव पूजा में धतूरे जैसा जहरीला फल चढ़ाने के पीछे भी भाव यही है कि...
    July 18, 02:00[IST]
  • कोई भी काम करते समय ध्यान रखें ये बातें वरना बढ़ने लगती हैं कामनाएं
    फोटो-पं. विजयशंकर मेहता जब भी कोई काम करें तो शरीर, मन और आत्मा की भूमिका दिमाग में जरूर रखें। हम बाहरी सांसारिक वस्तुओं के प्रति व्यक्तियों को लेकर जागरूक रहते हैं, लेकिन हमारी हर गतिविधि में इन तीनों का बड़ा योगदान है। खासतौर पर मन का, क्योंकि किसी भी कर्म में मन कामना भर देता है। मन की क्षमता अद्भुत होती है। यदि उसका ठीक से उपयोग नहीं हुआ है तो वह कामनाओं की आंधी चला देता है। जब हम कोई कर्म करते हैं और उसमें मन यदि सक्रिय रहे तो पहला परिणाम फल पर आता है। दूसरा परिणाम उस फल से मिलने वाली खुशी या...
    July 15, 12:07[IST]
  • गुरु पूर्णिमा- गुरु पूजा के ये छोटे-छोटे उपाय भी कर देंगे खुशहाल
    उज्जैन।हिन्दू धर्म परंपराओं में गुरु पूर्णिमा (12 जुलाई) गुरु भक्ति, वंदना और कृपा से जीवन को शांत, सुखी और सफल बनाने की चाहत से बहुत शुभ घड़ी है। यानी यह दिन गुरु सेवा को ही समर्पित है। असल में, जीवन के नजरिए से यह जरूरी नहीं कि गुरु मात्र धर्म, अध्यात्म क्षेत्र या पहनावे से जुड़ा हो या कोई एक ही व्यक्तित्व हो, बल्कि हर वह इंसान, जो दु:ख के दलदल से दूर रख खुशहाली की राह बताने का ज्ञान, कौशल, सीख और भरोसा दे, उन्हें गुरु माना गया है। अगर आप भी सुख-सफलता की चाहत रखते हैं या फिर परेशानियों से घिरे हैं, तो इस...
    July 11, 04:28[IST]
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 
 
 
 
 
 

रोचक खबरें

 
 
 
 
 
 
विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 
 
 
 
 
 

स्पोर्ट्स

 
 
 
 
 
 

बिज़नेस

 
 
 
 
 
 

जोक्स

 
 
 
 
 
 

पसंदीदा खबरें

 
 
 
 
 
 

फोटो फीचर