• जानिए शास्त्रों में बताए पतिव्रता स्त्री के लक्षण व काम
    आज के दौर में हर गृहस्थ या अविवाहित पुरूष, ऐसी स्त्रियों की चाहत या कामना रखता है, जिनके बोल, विचार और व्यवहार से गृहस्थी स्वर्ग बन जाए। वैसे पति-पत्नी के बीच मधुर संबंधों के लिए दोनों का एक-दूसरे पर पूरा भरोसा और समर्पण ही अहम होता है। चूंकि स्त्री गृहस्थ जीवन की धुरी मानी जाती है। इसलिए यहां बताए जा रहें हैं कि गृहस्थ जीवन में स्त्री का पति के लिए कैसा भाव, विचार और व्यवहार जरूरी है -
    September 8, 07:15[IST]
  • PIX: काम पर जाने से पहले यह सरस्वती मंत्र उपाय देगा कामयाबी व तरक्की
    शास्त्रों की नजर से सफल जीवन के लिए सबसे अहम होते हैं - ज्ञान, विद्या व बुद्धि बल। विद्या, बुद्धि और विवेक इंसान को हर वक्त आगे रखने और बढऩे में अहम साबित होते हैं। इसके लिए ज्ञान की अधिष्ठात्री माता सरस्वती का ध्यान श्रेष्ठ माना गया है। माता वाणी, कला और वैभव संपन्न भी बनाती है। यही वजह है कि शुक्रवार के अलावा हर रोज सुबह देवी सरस्वती के विशेष मंत्र का स्मरण शिक्षा हो या नौकरी हर स्थिति में मनचाही सफलता व तरक्की की चाहत को पूरा करने वाला माना गया है। पौराणिक मान्यताओं में दुर्गासप्तशती के उत्तर...
    January 3, 01:03[IST]
  • धर्म का सही अर्थ है अपने कर्तव्य को ईमानदारी से निभाना...
    यह आदमी का स्वभाव है कि वह अधिकारों के लिए जितना जागरूक होता है, कर्तव्यों के प्रति उतना ही उदासीन। कर्तव्य के लिए आमतौर पर लोगों के मन में टालने की प्रवृत्ति होती है। क र्तव्य को टालने का अर्थ है, धर्म से कट जाना क्योंकि कर्तव्य का ही एक नाम धर्म है। सीधे तौर पर कह सकते हैं कर्तव्य ही धर्म है। कर्तव्यों से बचकर धर्म या अध्यात्म के रास्ते पर नहीं चला जा सकता है, अध्यात्म की पहली मांग ही है कि कर्तव्यों की पूर्ति हो।पहले समझें कि कर्तव्य क्या है? ऐसे सारे काम जो हमारे धर्म के पालन के लिए जरूरी हैं वे...
    November 19, 11:48[IST]
  • क्यों पश्चिम की ओर चेहरा कर अदा करते हैं नमाज?
    इस्लाम धर्म की नींव है - नमाज। इस्लाम धर्म को मानने वाले हर इंसान के लिए जरूरी पांच फर्ज में से नमाज भी एक है। जिसके लिये पांव वक्त की नमाज जरूरी बताई गई है। इस्लाम धर्मग्रंथों के मुताबिक पांच वक्त की नमाज से जाने-अनजाने हुए सभी गुनाह मिट जाते हैं। साथ ही उस नमाजी के लिए जन्नत यानी स्वर्ग के दरवाजे खुल जाते हैं। इस तरह नमाज खुदा की रहमत पाने का पवित्र कर्म है और फ़र्ज भी।क्या आप जानते हैं कि खुदा की रहमत पाने के लिए की जाने वाली नमाज खासतौर पर भारत में पश्चिम दिशा की ओर चेहरा कर क्यों अदा की जाती है?...
    November 17, 02:22[IST]
  • एक सही निर्णय आपको भी बना सकता है विश्व विख्यात
    क्या संभव है कि हम कर्म के बिना इस दुनिया में रह पाएं। हमें कुछ तो करना ही पड़ेगा। जीवन के लिए सांस लेना भी एक कर्म ही है। हम कर्म करने के लिए बाध्य हैं लेकिन प्रकृति ने हमें अपने कर्म को चुनने की स्वतंत्रता दी है। हम कौन सा काम चुनते हैं यह हम पर ही निर्भर करता है। प्रकृति सिर्फ हमारे निर्णय पर प्रतिक्रिया देती है, और वह प्रतिक्रिया हमारे कर्म के परिणाम के रूप में सामने आती है। यहीं से शुरू होती है हमारे कर्तव्यों की बात। हमारा पहला कर्तव्य क्या है। कर्म का चयन हमारा पहला कर्तव्य है। हम जब भी अपने...
    November 10, 03:57[IST]
  • अगर आप टीम लीडर है तो यह है आपका पहला कर्तव्य...
    अगर आप किसी कारपोरेट जगत के टीम लीडर हैं तो आप जिम्मेदारियों से दबे ही होंगे। अक्सर टीम लीडर्स गलत फैसलों के शिकार हो जाते हैं, भीतरी राजनीति और प्रतिस्पर्धा में कई बार टीम लीडर पिछड़ भी जाते हैं। टीम लीडा का पहला कर्तव्य है कि वो अपना ज्ञान संपूर्ण करे। अधूरा ज्ञान आत्मघाती भी होता है। ज्ञान नहीं होगा तो हम टीम का नेतृत्व कुशलता से नहीं कर पाएंगे। कारपोरेट संस्थानों में लीडरशिप के लिए बड़े-बड़े पैकेज पर लोग रखे जा रहे हैं। कई टीम लीडर ऐसे होते हैं जिनकी नींव ही खोखली होती है, वे अगर भाग्य से...
    November 8, 03:50[IST]
विज्ञापन
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 
 
 
 
 
 

रोचक खबरें

 
 
 
 
 
 
विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 
 
 
 
 
 

स्पोर्ट्स

 
 
 
 
 
 

बिज़नेस

 
 
 
 
 
 

जोक्स

 
 
 
 
 
 

पसंदीदा खबरें

 
 
 
 
 
 

फोटो फीचर