Home» Jeevan Mantra »Fitness Mantra »Aasan Aur Dhyan » Kukkutasana

आलस्य दूर करता है कुक्कुटासन

धर्म डेस्क. उज्जैन | Oct 22, 2010, 14:35PM IST
आलस्य दूर करता है कुक्कुटासन

दिनभर स्फूर्तिवान रहने के लिए सुबह की शुरूआत योगा से करनी चाहिए। योगासन से पूरा दिन हम ऊर्जावान बने रहते हैं। पूरे शरीर के व्यायाम के लिए कुक्कुटासन काफी फायदेमंद है।

आसन की विधि-

किसी समतल स्थान पर कंबल बिछाकर बैठ जाएं। दाएं पैर को घुटने से मोड़कर बाएं पैर की जांघ पर रखें और बाएं पैर को घुटने से मोड़कर दाएं जांघ पर रखें।  इसके बाद दोनों हाथों को दोनों जांघों व पिंडलियों के बीच से कोहनी तक का हिस्सा बाहर निकालें। अब दोनों हथेलियों को फर्श पर टिकाकर पूरे शरीर का भार उस पर डालकर शरीर को जितना ऊपर उठा सके उठाएं। शरीर को ऊपर उठाने के बाद इस स्थिति में कुछ देर रहें और फिर सामान्य स्थिति में आ जाएं।

आसन के लाभ-

कुक्कुटासन को करने से बाहों, कोहनियों, कंधों और हाथों को मजबूती मिलती है। इस आसन को करने से पूरा शरीर मजबूत व दृढ़ बनता है। इससे छाती शक्तिशाली बनती है। इससे आलस्य दूर होता है तथा थकावट को दूर करने में भी यह लाभकारी है। इस आसन को करने से हाथ व पैरों का कम्पन दूर होता है तथा भूख बढ़ती है। कुक्कुटासन स्त्री-पुरुष दोनों के लिए लाभकारी है। यह आसन पीठ, कंधे, कमर व हाथों के दर्द को ठीक करता है। शरीर से अत्यधिक फेट कम करता है।





आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
4 + 1

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment