Home» Jeevan Mantra »Jyotish »Jyotish Nidaan » Jyts Know The Effects Of Guru In Dhanu Lagna Kundali

इन लोगों के जीवन में रहती है पैसों की तंगी

धर्म डेस्क. उज्जैन | Oct 18, 2013, 13:07PM IST
इन लोगों के जीवन में रहती है पैसों की तंगी

जानिए यदि किसी व्यक्ति की कुंडली धनु लग्न की हो और उसके एकादश या द्वादश भाव में बुध स्थित हो तो व्यक्ति के जीवन पर क्या-क्या प्रभाव पड़ता है...
धनु लग्न की कुंडली के एकादश भाव में बुध हो तो...
जिन लोगों की कुंडली धनु लग्न की है और उसके एकादश भाव में बुध स्थित है तो उन लोगों को व्यवसाय से काफी लाभ प्राप्त होता है। धनु लग्न की कुंडली का एकादश भाव तुला राशि का स्वामी शुक्र है। कुंडली का एकादश भाव लाभ का कारक स्थान होता है। इस स्थान पर बुध होने से व्यक्ति बौद्धिक कार्यों से काफी धन लाभ प्राप्त कर सकता है। इनके जीवन में धन संबंधी परेशानियां बहुत कम रहती हैं। समाज में मान-सम्मान प्राप्त होता है।
धनु लग्न की कुंडली के द्वादश भाव में बुध हो तो...
कुंडली का द्वादश भाव व्यय का कारक स्थान होता है। धनु लग्न की कुंडली का द्वादश भाव वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल है। मंगल की इस राशि में बुध होने पर व्यक्ति को बाहरी स्थानों से काफी लाभ प्राप्त होता है। ये लोग अपने जन्म स्थान से यदि व्यवसाय करते हैं तो उन्हें धन हानि का सामना करना पड़ सकता है। इन्हें जीवन साथी एवं पिता की ओर से पूर्ण सुख प्राप्त नहीं हो पाता है, इसकी वजह से इन्हें मानसिक तनाव का भी सामना करना पड़ता है।

  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

Email Print
0
Comment