Home» Jeevan Mantra »Dharm »Upasana » What Is The Effect Of Chant Mahamritunjay Mantra In Different Numbers?

PIX: कितनी बार महामृत्युञ्जय मंत्र बोलने का क्या होता है असर?

धर्म डेस्क, उज्जैन | Jan 09, 2013, 14:21PM IST
1 of 2

भक्ति में अविश्वास का कोई स्थान नहीं होता। धर्मशास्त्र भी यही कहते हैं कि आस्था,  विश्वास, प्रेम और भावना ही ऐसी वजह है जो ईश्वर को भी भक्त के पास आने को मजबूर करती है। भगवान शिव भी ऐसे ही देवता माने जाते हैं, जो भक्तो की थोड़ी ही उपासना से प्रसन्न हो जाते हैं।   

शिव की प्रसन्नता के ही इन उपायों में महामृत्युञ्जय मंत्र को बहुत ही अचूक माना जाता है। शिवपुराण में तो शिव भक्ति के काल जैसे प्रदोष, सोमवार, चतुर्दशी या  हर रोज भी महादेव के इस मंत्र का अलग-अलग रूप और संख्या में जप तन, मन और धन का हर सुख देने वाला बताया गया है। इसके लिए यह भी जरूरी है कि भक्त बिना किसी कामना के शिव का ध्यान करे। पूरी पवित्रता व निष्काम यानी बिना स्वार्थ के नियत संख्या में मंत्र जप तो जन्म-जन्मान्तर के कर्मों का स्मरण कराने के साथ शिव के साक्षात दर्शन कराने वाला भी माना गया है। 

जानिए, कितनी बार शिव के इस महामंत्र को बोलने या जप करने क्या-क्या होता है-  

- महामृत्युञ्जय मंत्र के एक लाख जप करने पर शरीर पवित्र हो जाता है। 

- महामृत्युञ्जय मंत्र के दो लाख जप पूरे होने पर पूर्वजन्म की बातें याद आ जाती हैं। 

- महामृत्युञ्जय मंत्र के तीन लाख  जप पूरे होने पर सभी मनचाही सुख-सुविधा और वस्तुएं मिल जाती है। 

- महामृत्युञ्जय मंत्र चार लाख जप पूरे होने पर भगवान शिव सपनों में दर्शन देते हैं। 

- पांच लाख महामृत्युंजय मंत्र जप पूरे होते ही भगवान शिव फौरन ही भक्त के सामने प्रकट हो जाते हैं।

 
  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

Email Print Comment