Home» Jeevan Mantra »Dharm »Upasana » This Step Of Worship With Surya Arghya Fulfill Desire

सूर्य अर्घ्य का चमत्कारी उपाय, फौरन पूरी करता है मनोकामना

धर्म डेस्क, उज्जैन | Jul 20, 2013, 20:38PM IST
1 of 4

हिन्दू धर्म में प्रकृति शिव रूप मानी गई है तो सूर्य एकमात्र साक्षात दर्शन देने वाले देवता माने जाते हैं। वहीं सूर्य के बगैर सांसारिक व प्राकृतिक क्रियाएं संभव नहीं हो पातीं। इस तरह एक ही ईश्वर के अलग-अलग शक्तियों के रूप में होने की आस्था को प्रकृति रूप शिव व सूर्यदेव की एकरूपता सिद्ध भी करती है। यही वजह है सूर्यदेव और शिव दोनों की उपासना सांसारिक जीवन के लिए मंगलकारी बताई गई है।
शिवपुराण में भी सूर्यदेव को शिव का ही रूप बताया गया है। लिखा गया है कि - दिवाकरो महेशस्यमूर्ति दीप्तमण्डल: यानी भगवान सूर्य महेश्वर की मूर्ति है, उनका आभामण्डल तेजोमयी है।
अगली स्लाइड्स में जानिए सूर्य अर्घ्य के साथ शिव भक्ति का ऐसा चमत्कारी उपाय जो हर सांसारिक कामना को पूरा करने वाला माना गया है -

  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

Email Print Comment