Home» Jeevan Mantra »Dharm »Pooja Package » This Mantra Increase Power And Energy

PIX: ताकत और जोश बढ़ाता है यह देव मंत्र

धर्म डेस्क, उज्जैन | Feb 06, 2013, 17:08PM IST
1 of 2
हिन्दू धर्म परंपराओं में शुक्रवार के दिन देवी पूजा से ज़िंदगी से जुड़ी अलग-अलग रूपों में शक्ति संचय का महत्व है। शक्ति अर्जन और रक्षा की बात हो तो धर्मग्रंथों में इंसान की शक्ति और ऊर्जा को कायम रखने के लिए ब्रह्मचर्य का पालन भी अहम माना गया है। 
ब्रह्मचर्य का मूल भाव भी संयम और अनुशासन से है। इसके द्वारा तन व मन की शक्तियां व ऊर्जा बरकरार रखने का श्रेष्ठ उपाय भी है। ब्रह्मयर्च पालन के लिये रज और वीर्य रक्षा की भी अहमियत बताई गई है। धर्म, विज्ञान और आध्यात्मिक नजरिए से भी रज और वीर्य मानसिक, शारीरिक और वैचारिक शक्ति को जोड़ते हैं, जो बाहरी तौर पर उत्साह, विश्वास, ऊर्जा, सोच और जोश के रूप में भी प्रकट होती है। 
इसी जोश, ऊर्जा और शक्ति को बनाए रखने के लिए हिन्दू धर्म शास्त्रों में शुक्रवार को शुक्र ग्रह की उपासना का भी महत्व है। ज्योतिष शास्त्रों में भी शुक्र ग्रह को यौन अंगों, रज और वीर्य का कारक भी माना गया है। धार्मिक नजरिए से शुक्र पूजा से तमाम भौतिक सुख मिलते हैं। 
यही वजह है कि शुक्र ग्रह के शुभ-अशुभ प्रभाव दाम्पत्य जीवन और सांसारिक सुख नियत करते हैं। शुक्र के शुभ योग और अनुकूलता से इंसान उत्साही, ऊर्जावान बना रहकर दाम्पत्य और यौन सुखों प्राप्त करता है, वहीं बुरे योग से यौन रोग और वीर्य दोष से पीडि़त होने के साथ दाम्पत्य जीवन भी तनावभरा होता है।
अगर आप भी शुक्र दोष से आलस्य, असफलता या दाम्पत्य जीवन में तनाव का सामना कर रहे हैं तो अगली तस्वीर के साथ बताया जा रहा है शुक्र ग्रह को अनुकूल करने के लिए एक विशेष मंत्र और सामान्य पूजा उपाय, जो आपको इन सारी समस्याओं से दूर रखेगी। 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
4 + 7

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment