Home» Jeevan Mantra »Dharm »Pooja Package » Shani Dhyan Mantra: Steps Of Lord Shani Worship For Be Lucky On Saturday

शनि ध्यान मंत्र : शनिवार को करें यह किस्मत बदलने वाला उपाय

धर्म डेस्क, उज्जैन | Jan 05, 2013, 01:02AM IST
1 of 2

हिन्दू धर्मशास्त्रों व पुराणों के उपदेशों पर गौर करें तो मोटे तौर पर ज़िंदगी से जुड़ी एक अहम बात सीखने को मिलती है कि अगर सुख, शांति और सफलता की आस है तो हमेशा सकारात्मक सोच व संकल्प के साथ सच और न्याय का रास्ता ही चुनें।

ऐसी ही सीख लेकर अगर शनिदेव के स्वरूप व चरित्र का स्मरण व भक्ति की जाए तो जीवन में आने वाली हर तरह की मुश्किलों से बचना आसान हो सकता है। दरअसल, पौराणिक प्रसंगों या परंपराओं में शनि की क्रूरता या टेढ़ी चाल, शनि साढ़े साती या फिर शनि दशा जैसी शनि चरित्र से जुड़ी कई बातों पर नकारात्मक तरीके से विचार करने के बजाय इन बातों में छुपे शनिदेव के बेहद सकारात्मक पहलू को भी जाना व अपनाया जाए। 

शास्त्रों में शनि चरित्र कर्मशील, ज्ञानी, तपस्वी, परोपकारी, कल्याणी, अन्याय के खिलाफ, सत्य और अनुशासन से भरा बताया गया है। इसलिए वह न्यायाधीश भी कहे गए हैं। 

शनिवार को शनि के इसी न्याय व कर्म प्रधान स्वरूप का स्मरण अगली तस्वीर में बताए शनि मंत्र के साथ किया जाए तो कर्म, विचार व व्यवहार के सारे दोष व मुश्किलों का अंत होकर सुख-सौभाग्य प्राप्त होता है- 

- शनिवार की सुबह स्नान कर शनि की काले पाषाण व चार भुजाओं वाली प्रतिमा के सामने नीचे लिखे शनि मंत्र का ध्यान करें - 

नीलद्युति शूलधरं किरीटिन गृद्ध स्थितं त्रासकरं धनुर्धरम्। 

चतुर्भुजं सूर्यसुतं प्रशांत वंदे सदाभिष्ट करंवरेण्यं।। 

- मंत्र ध्यान के बाद शनिदेव को सरसों का तेल, गंध, अक्षत, काली उड़द, काले तिल, फूल, काला वस्त्र चढ़ाकर तेल से बने पकवानों का भोग लगाएं। शनि चालीसा या शनि मंत्रों का स्मरण कर शनि की तेल के दीप से आरती कर शनि से सुख-संपन्नता की कामना करें।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
8 + 8

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

Money

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment