Home» Jeevan Mantra »Dharm »Pooja Package » Durgasaptshati Mantra: Remedy Of Remove Problems

दुर्गासप्तशती मंत्र: परेशानियों को खदेड़ने का अचूक उपाय

धर्म डेस्क, उज्जैन | Jan 24, 2013, 19:14PM IST
1 of 2

धर्मग्रंथों की सीख पर गौर करें तो ताकतवर बनने की चाहत से जुड़ी हर सही सोच या काम शक्ति पूजा की तरह हैं, जिनसे तन, मन व धन से जुड़े सारे दु:ख दूर हो जाते हैं। संकेत यही है कि सच्चे और साफ मन से धार्मिक या व्यावहारिक तौर पर की गई शक्ति साधना हर मकसद को जल्द पूरा करती है। 

देवी उपासना से ऐसी कामनासिद्धि और परेशानियां दूर करने के लिए दुर्गासप्तशती के चमत्कारी श्लोक व मंत्रों का पाठ अचूक माना गया है। खासतौर पर देवी उपासना की घड़ी शुक्रवार को कामना विशेष पूरी करने के लिए यहां बताए जा रहे विशेष मंत्र का स्मरण मंगलकारी है- 

- सवेरे या शाम स्नान के बाद लाल वस्त्र पहन देवी मंदिर या घर के देवालय में ही लाल आसन पर बैठ देवी प्रतिमा की लाल चंदन, लाल फूल, लाल वस्त्र, लाल अक्षत व फल चढ़ाकर पूजा करें। 

- देवी को दूध का भोग लगाएं और स्फटिक की माला से कम से 108 बार इस मंत्र का स्मरण कर अंत में देवी आरती करें - 

ते सम्मता जनपदेषु धनानि तेषां तेषां 

यशांसि न च सीदति धर्मवर्ग:। 

धन्यास्त एव निभृतात्मजभृत्यदारा येषां 

सदाभ्युदयदा भवती प्रसन्ना।।

इसमें देवी महिमा है कि कल्याणकारी मां दुर्गा जिस पर प्रसन्न होती है, वह सम्मानित, यशस्वी व वैभवशाली जीवन को प्राप्त करता है। साथ ही अधर्मी और पथ भ्रष्ट न होकर स्वस्थ्य जीवन के साथ स्त्री, संतान व सेवक का सुख भी प्राप्त कर धन्य हो जाता है।

  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

Email Print
0
Comment