Home» Jeevan Mantra »Dharm »Gyan » Dharm_these 5 Task Give Huge Success In New Years

नए साल में ये 5 काम देंगे जबर्दस्त सफलता

धर्म डेस्क. उज्जैन | Dec 20, 2012, 14:33PM IST
नए साल में ये 5 काम देंगे जबर्दस्त सफलता
अक्सर हर इंसान स्वभाविक तौर पर सुखों की आस लगाए रहता है, किंतु दु:खों की वजह बन रही अपनी कमजोरियों को नजरअंदाज करता है। खुद के दोषों को न पहचानना या स्वीकार न करना मनचाहे सुख पाने में अड़चने पैदा करती है। इसलिए शुभ और बेहतर नतीजों के लिये जरूरी है - बेहतर कोशिशें और असफलताओं से सबक लेकर कमियों में सुधार करना।
नया साल भी गुजरे साल में मिली असफलताओं व बुरे परिणामों को पीछे छोड़ नई शुरुआत व सफलता के लिए आगे कदम बढ़ाने का मौका है। इस वक्त को भुनाने के लिए शास्त्रों में उजागर दोष और बुराइयों से बचाकर सुख बटोरने के 5 खास सबक व्यावहारिक तौर पर अपनाना किसी भी व्यक्ति के लिए बेहद कारगर व मनचाहे नतीजे देने वाले साबित हो सकते हैं। मनुस्मृति में लिखा गया है कि - 
अहिंसा सत्यमस्तेयं शौचमिन्द्रियनिग्रह:।
एतं सामासिकं धर्मं चातुर्वण्येवीन्मनु:।।
सरल शब्दों में समझें तो जीवन में बुरे समय और परिणामों से बचने के लिये इन पांच बातों को मन, वचन, कर्म से जोडऩा चाहिए - 
हिंसा से बचें - बुरे शब्द या विचार भी शरीर पर आघात की तरह ही हिंसा होते हैं, जो जीवन को अशांत कर बुरे परिणाम देते हैं। 
सच बोलें - सच्चे बोल और व्यवहार से इंसान भरोसा और सम्मान पाता है। 
चोरी से बचें  - धन ही नहीं किसी के जीवन, मान-सम्मान, विचार से जुड़े विषय या वस्तुओं पर लाभ के लिए अधिकार या अपहरण भी धर्म के नजरिए से चोरी है, जो दु:खों का कारण बनती है।   
स्वच्छता रखें - मन व शरीर में पवित्रता शांत, सुखी व स्वस्थ्य जीवन के लिए जरूरी है। 
संयम रखें - इंद्रिय संयम सरल शब्दों में कहें तो शौक-मौज, विलासिता से भरे जीवन के आकर्षण में तन और मन को भटकाने से आखिरकार जीवन रोग, दु:ख और पीड़ाओं से घिर जाता है। इसलिए मन और शरीर की इच्छाओं को काबू में रखें। 

 

Ganesh Chaturthi Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
9 + 4

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

Ganesh Chaturthi Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment