Home» Jeevan Mantra »Aisha-Kyun » Parampara We Should Remember This Tradition In Temples

मंदिर में भगवान की ओर पीठ करके नहीं बैठना चाहिए

धर्म डेस्क. उज्जैन | Jan 25, 2013, 12:51PM IST
1 of 4

शास्त्रों के अनुसार ईश्वर कण-कण में विराजमान हैं, हर जीव में परमात्मा निवास करते हैं। ईश्वर की साक्षात् अनुभूति के लिए मंदिर या देवालय बनाए गए हैं और हमारे घरों में भी भगवान के लिए अलग स्थान रहता है। मंदिर में देवी-देवताओं की प्रतिमाएं या चित्र रखे जाते हैं। जब भी श्रद्धालु कोई मनोकामना लेकर मंदिर या देवालय में जाते हैं तो वहां कुछ समय बैठते अवश्य हैं। मंदिर में कैसे बैठना चाहिए इस संबंध में भी कुछ खास बातें बताई गई हैं। इन बातों का पालन करने पर मंदिर जाने का पूर्ण पुण्य लाभ प्राप्त होता है।

नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करें और पढ़िए अन्य परंपराएं

स्त्री हो या पुरुष, जानिए सुबह बिस्तर छोडऩे से पहले क्या देखना चाहिए

शादी का सातवां वचन: पति कभी भी पराई स्त्री को टच नहीं करेगा

 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
9 + 9

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment