Home» Jeevan Mantra »Aisha-Kyun » Jyts Know Importance Of Winter Season According Hindu Mythology

ठंड में ध्यान रखेंगे ये बातें तो बढ़ेगा पौरुष बल और चमकेगी किस्मत

धर्म डेस्क. उज्जैन | Jan 02, 2013, 17:12PM IST
विज्ञापन
Skip this ad

इसी ऋतु में पौष मास आता है, जो पुष्टि का मास है। इसी मास की पूर्णिमा पुष्य नक्षत्र में आती है, इसीलिए इसे पौष की संज्ञा दी गई है। पुष्य 28 नक्षत्रों (अभिजित सहित) में सर्वश्रेष्ठ और नक्षत्रों का राजा है। ये सारे प्रतीक इस तथ्य के संकेत हैं कि शिशिर में स्वास्थ्य के प्रति सतर्क, सजग और सक्रिय रहना चाहिए। शेष 10 मासों में ऊर्जा के साथ काम को परिणाम तक पहुंचाने के लिए शिशिर में रखी गई सावधानी लाभदायी होती है।
 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 2

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment
(1)
Latest | Popular