Home» Jeevan Mantra »Dharm »Gyan » Ancient Hindu Religion Books Disclose Hide Aspects Of Woman's Beauty

सदियों पहले प्रेम में ठगाए राजा ने बताईं स्त्री के रूप-रंग से जुड़ीं ये गुप्त बातें

धर्म डेस्क, उज्जैन | Sep 15, 2013, 20:43PM IST
1 of 17
प्रेम को जानने-समझने के कई पहलू हो सकते हैं। धर्म के नजरिए से गौर करें तो सत्य प्रेम की भावना और क्षमा-भाव को बढ़ाता है। वहीं, केवल शरीर तक टिका प्रेम वासना होता है। इस प्रेम की मन तक पहुंच भावना बन जाती और आत्मा तक पहुंचा प्रेम तो साधना की तरह सुकून देता है। 
आज के दौर में जबकि आए दिन प्रेम में असफलता से उपजी निराशा और बदले की भावना से घात या आत्मघात के किस्से सामने आते रहते हैं, हिंदू धर्म, संस्कृति और इतिहास से स्त्री प्रेम से जुड़े कई प्रसंग न केवल स्त्री से रिश्तों की सच्चाइयों को समझने और जानने का नजरिया देते हैं, बल्कि उनमें समाया गूढ़ ज्ञान कई उलझनों से बचने और निपटने का तरीका भी उजागर करता है।
इसी कड़ी में स्त्री के मोह और प्रेम में जकडक़र छले गए राजा की सदियों पुरानी किताब हिंदू धर्म साहित्य का अहम अंग मानी जाती है। इसमें प्रेम में ठगाए राजा ने बदले के बजाए क्षमा भाव के साथ स्त्री प्रेम को आत्मज्ञान के रूप में जीवन में उतार, स्त्री और उसके सौंदर्य से जुड़ी कई आंखें खोल देने वाली बातें उजागर की। ये दिलचस्प होने के साथ ही केवल स्त्री मोह व आकर्षण में उलझकर पतन के रास्ते पर न जाने की नसीहत भी देती हैं।
जानिए कौन थे ये प्रतापी राजा? और सदियों पुरानी उनकी किताब में समाई स्त्री व उसके सौदर्य से जुड़ी वे बातें, जिनको केवल ऊपरी तौर पर विचार करने वाले कई लोग भोग-विलास की बातें मानते हैं, वहीं विद्वानों के मुताबिक ये बातें इंसानी मन व जीवन की बुनियादी सच्चाई हैं -
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
3 + 1

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment