जीवन मंत्र
Home >> Jeevan Mantra >> Aisha-Kyun

ऐसा क्यों

क्यों गले में और सिर पर चांदी नहीं, सोना ही पहनना चाहिए

क्यों गले में और सिर पर चांदी नहीं, सोना ही पहनना चाहिए
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इंसान के सिर पर सूर्य ग्रह का प्रभाव रहता है।...
 
  • क्यों चढ़ाया जाता हैं हनुमान जी को सिंदूर का चोला

    क्यों चढ़ाया जाता हैं हनुमान जी को सिंदूर का चोला

      उज्जैन । हनुमान जी श्री राम भक्त है। अष्टचिरंजीवी में से एक चिरंजीवी हनुमान भी है। जो हनुमान जी का पूजन करता है। उसकी उम्र में वृद्धि होती है। मंगल ग्रह की पीड़ा भी हनुमान जी को सिंदूर अर्पित करने से दूर होती है।  शास्त्रों में हनुमान जी को सिंदूर का चोला चढ़ाए जाने के विषय में वर्णन मिलता है कि जब रावण को मारकर राम जी सीता जी को लेकर अयोध्या आए थे। तब हनुमान जी ने भी भगवान...

  • परंपरा: स्त्रियां पायल क्यों पहनती हैं, जानिए इसकी असली वजह

    परंपरा: स्त्रियां पायल क्यों पहनती हैं, जानिए इसकी असली वजह

    उज्जैन। किसी भी स्त्री के पैरों की सुंदरता में पायल चार चांद लगा देती है। स्त्रियों के सोलह श्रृंगार में पायल भी शामिल है। आमतौर पर यही माना जाता है कि पायल स्त्रियों के लिए श्रृंगार की वस्तु है, लेकिन इससे कई अन्य लाभ भी प्राप्त होते हैं। पायल से प्राप्त होने वाले फायदों के विषय में काफी कम लोग ही जानते हैं। आमतौर पर पायल के संबंध में मान्यता है कि इसकी आवाज से दैवीय शक्तियां...

  • सप्ताह के सात में से इन तीन दिनों में ना बनाएं दाढ़ी और ना कटवाएं बाल

    सप्ताह के सात में से इन तीन दिनों में ना बनाएं दाढ़ी और ना कटवाएं बाल

    उज्जैन।  पुराने समय से ही दाढ़ी बनाने और बाल कटवाने के लिए कुछ दिन वर्जित किए गए हैं। इस संबंध में मान्यता है कि यदि वर्जित किए गए दिनों में ये काम किए जाते हैं तो कई प्रकार के अशुभ फल प्राप्त होते हैं। शास्त्रों के अनुसार दैनिक जीवन में शुभ फल पाने के लिए कई ऐसी परंपराएं बताई गई हैं, जिनका पालन आज भी किया जाता है। ऐसी ही कुछ परंपराएं दाढ़ी बनाने या बाल कटवाने से संबंधित हैं। यहां...

  • पानी में मिलाएं नमक और फिर लगाएं पोंछा, दरिद्रता दूर करते हैं ये उपाय

    पानी में मिलाएं नमक और फिर लगाएं पोंछा, दरिद्रता दूर करते हैं ये उपाय

    उज्जैन। पुराने समय से ही सुख और समृद्धि के लिए कई प्रकार के नियम बताए गए हैं। कई घरों में आज भी इन परंपरागत नियमों का पालन किया जाता है। माना जाता है कि जहां ये परंपराएं प्रचलित हैं, वहां लक्ष्मी कृपा के साथ ही देवी अन्नपूर्णा की कृपा भी बनी रहती है। लक्ष्मी कृपा से धन संबंधी कार्यों में सफलता मिलती है और देवी अन्नपूर्णा की कृपा से घर में अनाज और खान-पान संबंधी अन्य चीजों की...

  • ये है सुबह उठने का सही समय, इस समय उठेंगे तो मिलेंगे पांच फायदे

    ये है सुबह उठने का सही समय, इस समय उठेंगे तो मिलेंगे पांच फायदे

    उज्जैन। अच्छे स्वास्थ्य और देवी-देवताओं की कृपा पाने के लिए हमें रोज सुबह ब्रह्म मुहूर्त में ही बिस्तर छोड़ देना चाहिए। ये पुरानी मान्यता है। ब्रह्म का मतलब परम तत्व या परमात्मा और मुहूर्त यानी शुभ समय। आमतौर पर रात के अंतिम समय यानी प्रात: 4 से 5.30 बजे तक के समय को ब्रह्म मुहूर्त माना गया है। हमारी दिनचर्या सुबह उठने से आरंभ होती है। इसलिए सुबह जल्दी उठना दिनचर्या का सबसे पहला और...

  • शिवलिंग पर क्यों चढ़ाते हैं भस्म, जानिए भस्म चढ़ाने का रहस्य

    शिवलिंग पर क्यों चढ़ाते हैं भस्म, जानिए भस्म चढ़ाने का रहस्य

    (उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर की भस्म आरती का दृश्य)   उज्जैन। शिवजी के पूजन में भस्म अर्पित करने का विशेष महत्व है। बारह ज्योर्तिलिंग में से एक उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर में प्रतिदिन भस्म आरती की जाती है। यह प्राचीन परंपरा है। यहां जानिए शिवपुराण के अनुसार शिवलिंग पर भस्म क्यों अर्पित की जाती है...   शिवजी का रूप है निराला   भगवान शिव अद्भुत व अविनाशी...

  • घड़ी किस तरह बदल सकती है Bad luck को Good luck में

    घड़ी  किस तरह बदल सकती है Bad luck को Good luck में

    उज्जैन। घरों में पाए जाने वाली घड़ी जीवन में महत्तवपूर्ण रोल निभाती है। ये न सिर्फ समय बतलाने का काम करती है बल्कि अच्छे समय को बढ़ाने का काम भी करती है। वास्तुशास्त्र में घड़ी और समयसूचक वस्तुओं के  बारें में बताया गया है। जिससे कि जीवन में शुभता में बढ़ोत्तरी हो। जानते हैं इसी बारे में.....    घर की दक्षिणी दीवार पर घड़ीे क्यों नहीं लगाना चाहिए?   वास्तु के अनुसार...

  • क्यों कराया जाता है भगवान को पंचामृत से स्नान?

    क्यों कराया जाता है भगवान को पंचामृत से स्नान?

    उज्जैन । देवमूर्ति को क्षार या अम्ल से स्नान कराने की मनाही है। साबुन और डिटरजेंट पाउडर स्वभाव से रुखे होते हैं। वहीं ये अम्ल व क्षार से बने होते हैं। यही कारण है कि जिस मूर्ति को पूजा घर में स्थापित कर दिया जाता है। उन देव प्रतिमाओं को दोबारा साबुन से नहीं साफ किया जाता है।   पंचामृत में मिलाए जाने वाले इन पंचतत्वो का अलग ही महत्तव हैं। पंचामृत भगवान का बाडीवाॅश है, जिससे स्नान...

  • अशुभ नहीं शुभ होता है अंक 3, कौन-कौन से काम होते हैं तीन-तीन बार

    अशुभ नहीं शुभ होता है अंक 3, कौन-कौन से काम होते हैं तीन-तीन बार

    उज्जैन। हमारे जीवन में अंकों का महत्व काफी अधिक है। मोबाइल नंबर हो या घर का नंबर या बैंक खाता नंबर या कार और बाइक के नंबर, ऐसी कई और भी आवश्यक बातें हैं जहां नंबर्स का उपयोग प्रमुखता से किया जाता है। नंबर्स को लेकर सभी की पसंद अलग-अलग होती है। लोग अपने लिए लकी नंबर को विशेष महत्व देते हैं।   काफी लोग अंक 3 को अशुभ मानते हैं, लेकिन शास्त्रों में इस अंक का विशेष महत्व बताया गया है।...

  • जानिए, समुद्र में पूर्णिमा को ही क्यों तेजी से आता हैै ज्वाराभाटा

    जानिए, समुद्र में पूर्णिमा को ही क्यों तेजी से आता हैै ज्वाराभाटा

    उज्जैन। अक्सर कहा जाता है कि पूर्णिमा पर समुद्र में नहीं जाना चाहिए। मछुआरे भी उस दिन समुद्र में जाने से बचते हैं। इसका कारण है समुद्र में आने वाला ज्वार भाटा। पूर्णिमा तिथि पर समुद्र की लहरें पूरे उफान पर होती हैं और ज्वारभाटा बहुत बड़े रूप में आता है। ऐसा क्यों होता है कि पूरे चांद की रात समुद्र इतना विकराल रूप धारण कर लेता है।   इसका सीधा रिश्ता चांद से हैं। धरती की तरह...

<< Prev 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15
विज्ञापन
राशिफल