संसार में दरिद्रता यानी गरीबी से बड़ा कोई दुःख नहीं है। हर इंसान को धनार्जन करना चाहिए, लेकिन नैतिक तरीकों से। - चाणक्य